महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कीर्ति को मिला सम्मान

0
157

ग्रामीण महिलाओं को मुख्य धारा से जोड़कर उनकी आर्थिकी रुप से स्वावलंबी बनाने वाली उत्तराखंड औद्यानिकी एवं वानिकी विवि के रानीचौरी परिसर के कृषि विज्ञान केंद्र की वैज्ञानिक कीर्ति कुमारी को डब्ल्यूईएफटी की ओर सम्मानित किया गया। उन्होंने महिला सशक्तीकरण, पोषण और आजीविका बढ़ाने के लिए कार्य किया है। इस कार्यक्रम में लगभग 130 महिलाओं ने भाग लिया था। लगभग 12 अलग-अलग कैटगरी में से कीर्ति को Showing help and support to another women श्रेणी में अवार्ड मिला।

कीर्ति कुमार मूलरूप से राजस्थान की हैं और रानीचौरी परिसर में वैज्ञानिक हैं। कर्नाटक के बंगलूरू में बीते 11 अगस्त को डब्ल्यूईएफटी (वूमेन एंटरप्रेन्योर ट्रांसफॉर्मेशन फाउंडेशन) ने केवीके की अधिकारी कीर्ति कुमारी को अवार्ड और प्रमाण-पत्र देकर सम्मानित किया गया।

संस्था की ओर से हर वर्ष देशभर में उन महिलाओं को पुरस्कृत किया जाता है, जो समाज में परिवर्तनकारी बदलाव लाकर सोच बदलने का जज्बा दिखाती हैं। कीर्ति कुमारी ने केवीके माध्यम से चंबा, जौनपुर, नरेंद्रनगर, थौलधार आदि ब्लॉक की महिलाओं को उद्यमी के रूप में आगे बढ़ाने के लिए अभियान चलाया है। उन्होंने महिलाओं को उत्पादों की ग्रेडिंग, प्रोसेसिंग, पैकेजिंग का प्रशिक्षण देकर उन्हें राष्ट्रीय स्तर पर बाजार उपलब्ध करवाने का काम किया है। इसके साथ ही ऐनेमिक (अल्प रक्तता) स्कूली छात्राओं के लिए मंडुवे के पौष्टिक लड्डू बनाकर उनके पोषण में भी अहम भूमिका निभाई। वर्तमान में 150 चिह्नित बालिकाएं एनेमिक श्रेणी से बाहर आ चुकी हैं। इसके अलावा मंडवे की बर्फी, स्नेक्स, बेबी फूड भी कीर्ति कुमारी के निर्देशन में ग्रामीण महिलाएं बनाकर आजीविका संवर्द्धन कर रही हैं। ‘

WEFT एक ट्रांसफॉर्मेशन फाउंडेशन और नॉन प्रॉफिट बॉडी है जो वूमेन एंटरप्रेन्योर के समूह से बना है, जिसने लिंग, संस्कृति, नीतियों और कानूनों के पक्षपात को चुनौती दी है और उद्यमिता की दुनिया में कदम रखा है। WEFT उन महिलाओं को पुरस्कृत करता है जिन्होंने परिवर्तनकारी बदलाव लाकर  समाज की सोच को बदलने का जज्बा दिखाया है।