ऋषिकेश, लक्ष्मण झूला पुल से आवागमन पर रोक

0
48
देहरादून,  उत्तराखंड के ऋषिकेश स्थित लक्ष्मण झूला सेतु से आवागमन शुक्रवार से बन्द कर दिया गया है। यह पु​ल काफी पुराना है और एक ओर झुका हुआ नजर आ रहा है।
अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने बताया कि, “यह पुल वर्ष 1923 में निर्मित हुआ था जो वर्तमान में तत्समय के सापेक्ष अप्रत्याशित यातायात वृद्धि के कारण सेतु काफी जीर्ण-शीर्ण अवस्था में है। एवं एक ओर को झुका हुआ प्रतीत हो रहा हैं। यातायात घनत्व और अधिक होने के कारण भविष्य में सेतु के क्षतिग्रस्त होने की सम्भावना है। जिसके फलस्वरूप जनहानि की सम्भावना से इन्कार नहीं किया जा सकता है।”
डिजाइन टेक स्ट्रक्चर कंसलटेंट की ऑब्जर्वेशन रिपोर्ट में पाया गया है कि पुल के पुर्जे फेल और खाराब स्थिति में हैं। इस पुल को अब से पैदल यात्रियों के आवागमन की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। पुल को तत्काल प्रभाव से बंद किया जाना चाहिए, अन्यथा किसी भी समय कोई भी बड़ी चूक हो सकती है। जनहानि एवं दुर्घटना न हो इस बात के मद्देनजर लक्ष्मण झूला सेतु को आज से आवागमन के लिए बन्द कर दिया गया है।
लक्ष्मण झूला सेतु को आवागमन के लिए 12 जुलाई से बन्द कर दिया गया है। प्रमुख अभियंता लोक निर्माण विभाग उत्तराखंड की आख्या पर यह निर्णय किया गया है। अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने बताया है कि, “लक्ष्मण झूला सेतु वर्ष 1923 में निर्मित हुआ था। इस पुल पर अप्रत्याशित यातायात बढ़ोतरी हुई है। वर्तमान में यह सेतु जीर्ण-शीर्ण अवस्था में है। सेतु टावर क्षतिग्रस्त होने के कारण एक ओर को झुका हुआ प्रतीत होता है। यातायात घनत्व अधिक होने के कारण सेतु के क्षतिग्रस्त होने की सम्भावना बनी हुई है, जिसके कारण कभी भी कोई बड़ी दुर्घटना हो सकती है, जनहानि भी हो सकती है।”
उन्होंने बताया कि डिजाइन टेक स्ट्रक्चरल कन्सलटेंट की ओर से जो आख्या प्राप्त हुई है, वह इसी बात का प्रतीक है। आख्या को देखते हुए यह सेतु बंद किया गया है।