उत्तराखंड की 31 महिलाओं ने कहा, ‘लड़की हूं-लड़ सकती हूं’

0
45
कांग्रेस

कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने यूपी में ‘लड़की हूं-लड़ सकती हूं’ का नारा देते हुए 40 फीसद टिकट महिलाओं को देने की घोषणा की है। सोनिया गांधी के बाद कांग्रेस पार्टी की नंबर दो महिला नेत्री होने के नाते पूरे देश की महिलाओं में प्रियंका की घोषणा से नई उम्मीद जगी है।

इसी उम्मीद पर उत्तराखंड में उन्हीं की पार्टी कांग्रेस की 78 महिलाओं ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के समक्ष आवेदन किए, जबकि महिला कांग्रेस ने राज्य की 70 सीटों में से 31 यानी करीब 40 फीसद सीटों पर महिलाओं को टिकट के लिए संस्तुति की है।

उत्तराखंड में महिला दावेदारों की बात करें तो यहां महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव और पूर्व सीएम हरीश रावत की बेटी अनुपमा रावत तथा महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य प्रमुख दावेदारों में हैं। बताया जा रहा है कि इन दोनों ही नेत्रियों को टिकट मिलने मुश्किल हैं। अनुपमा ने हरिद्वार जिले की लक्सर, खानपुर और हरिद्वार ग्रामीण में से किसी एक सीट पर टिकट देने की मांग की है।

अनुपमा को इसलिए टिकट नहीं मिल सकता है कि क्योंकि उनके पिता हरीश रावत मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं। अभी अथवा कांग्रेस के बहुमत पाने पर वह उपचुनाव लड़ेंगे, और राहुल गांधी के फॉर्मूले के अनुसार एक परिवार से दो व्यक्तियों को टिकट नहीं मिल सकता।

राहुल गांधी के फॉर्मूले के लागू होने पर सरिता आर्य की टिकट मिलने की उम्मीदें बढ़ी थीं लेकिन बताया जा रहा है कि पिता यशपाल आर्य के साथ स्वयं भी निवर्तमान विधायक होने के कारण उनकी नैनीताल सीट से संजीव आर्य को टिकट मिलना निश्चित है। महिला कांग्रेस का नेतृत्व करते हुए सरिता किसी अन्य सीट पर अपना जनाधार बनाने लायक समय नहीं निकाल पाई हैं। इसलिए उन्हें भी टिकट मिलना मुश्किल है। उन पर दोहरा दबाव भी है कि यदि वह स्वयं टिकट नहीं पा सकतीं तो अपनी टीम की अन्य महिलाओं की टिकट के लिए कितनी पैरवी कर सकती हैं।

सरिता के अनुसार प्रियंका गांधी की बात से जगी उम्मीद पर उत्तराखंड में भी सामान्य वर्ग की 64 व अनुसूचित जाति की 14 यानी कुल मिलाकर 78 महिलाओं ने टिकट के लिए दावेदारी की है। जबकि उत्तराखंड महिला कांग्रेस की ओर से भी पार्टी हाईकमान को करीब 40 फीसद सीटों पर 31 महिलाओं के नाम सौंपे गए हैं। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड छोटा राज्य है तो यहां कम से कम 20 फीसद यानी 14 सीटों पर टिकट तो महिलाओं को मिलने ही चाहिए।

उत्तराखंड महिला कांग्रेस ने इन महिला नेत्रियों के लिए टिकट की की है पैरवी

महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य ने बताया कि उत्तराखंड महिला कांग्रेस की ओर से उन्होंने स्वयं और अनुपमा रावत के साथ राज्य महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष सरोजिनी कैंत्यूरा की बहू और दुगड्डा ब्लॉक की प्रधान रुचि कैंत्यूरा, रुड़की सीट से रश्मि चौधरी, पिथौरागढ़ से अंजु लुंठी, लैंसडौन से ज्योति रौतेला व रंजना रावत, राजपुर से वैजयंती माला उर्फ कमलेश रमन व आशा टम्टा, लोहाघाट से निर्मला गहतोड़ी, बाजपुर से सुनीता बाजवा टम्टा, गदरपुर से रीना कपूर, सुरेशी शर्मा उर्फ कोमल, शिल्पी अरोड़ा व ममता हलधर, सहसपुर से नजमा खान, रुद्रपुर से मीना शर्मा, रानीपुर से विमला पांडेय और लालकुआं से संध्या डालाकोटी व बीना जोशी, काशीपुर से मुक्ता सिंह, इंदु मान, अल्का पाल, भीमताल से जया बिष्ट, मसूरी से गोदावरी थापली, प्रदेश प्रवक्ता गरिमा दसौनी व जसवीर कौर, सल्ट से गंगा पंचोली, रुद्रप्रयाग लक्ष्मी राणा व सितारगंज से मंजू तिवारी व ममता विश्वास आदि के लिए टिकट की मांग की गई है।