चमोली जिले में भूस्खलन, बाधित बदरीनाथ हाइवे खुला

0
48
Lakshman jhulla barricaded for two wheelers
गोपेश्वर। मानसून के दस्तक देते ही चमोली जिले में भूस्खलन और जमीन धंसने से भवनों को खतरा पैदा हो गया है। शुक्रवार देररात भारी बरसात से बदरीनाथ हाइवे बाधित हो गया। शनिवार को हाइवे में यातायात सामान्य हो गया। वर्षा से जिले के छह लिंक मोटर मार्ग बाधित हो गए हैंं। इन्हें खोलने का काम जारी है।
जिला मुख्यालय गोपेश्वर में नवनिर्मित पार्क ढह गया है। बदरीनाथ हाइवे क्षेत्रपाल, विरही, बाजपूर बंद हो गया था। अगथला में एक वाहन भी बरसाती नाले में फंस गया। उसे कड़ी मशक्कत के बाद निकाला गया। गोपेश्वर में जयकृत सिंह निवासी हल्दापानी निकट लाॅ काॅलेज के भवन में मलबा गिरने से रेलिंग क्षतिग्रस्त हो गई है। नैग्वाड़ में बन रही पार्किंग का पुस्ता भी क्षतिग्रस्त हो गया है। लासी गांव में प्रकाश लाल की गौशाला, सुरेशा लाल और संजू लाल की भवन का पुस्ता ढह गया है जिससे मकान को खतरा पैदा हो गया है।
आपदा परिचालन केंद्र के मुताबिक छह लिंक मोटर मार्ग बंद है। इनमें पोखरी-गोपेश्वर मोटर मार्ग पोखरी बैंड के पास, पोखरी-विशालखाल विशाल में, कोठियालसैण-सवारीसैंण, मठ लगा पिलंग के पास, डिडोली संपर्क मार्ग, सेमी-मासौ- उत्तरों मोटर मार्ग कण्डारीगांव के पास, सेमी-पनाई-उत्तरो मोटर मार्ग जिलासू मस्टगांव के पास, अपर चमोली-खैनोली मोटर मार्ग भीमतल्ला के पास, संगवाडा-पार्धाकुली मोटर मार्ग जूनीधार के पास बंद है। लासी-सरतोली मोटर मार्ग मलबा आने से बाधित हो गया है।चमोली में 150 एमएम, गैरसैण में एक एमएम, पोखरी में तीन एमएम, जोशीमठ में 11.2 एमएम और घाट में आठ एमएम वर्षा दर्ज की गई है।