अल्मोड़ा के लक्ष्य सेन को विश्व जुनियर बैंडमिंटन रैंकिंग में मिला पहला स्थान

0
664

अल्मोड़ा के 15 साल के शटल खिलाड़ी लक्ष्य सेन ने गुरुवार को इतिहास के पन्नों पर अपना नाम उस वक्त दर्ज करा लिया जब उन्हें बैंडमिंटन वर्ल्ड फाउंडेशन ने दुनिया के जूनियर बैंडमिंटन सिंगल मुकाबले में पहला स्थान का दर्जा दिया।

लक्ष्य उत्तराखंड के पहले शटल्रर है जिसने न्यूमरो यूनो के इंटरनेशनल लेवल पर यह स्थान पाया है।लक्ष्य वो खिलाड़ी है जिसे बैंडमिंटन में उभरता हुआ सितारा माना जा रहा।लक्ष्य ने चाईना के खिलाड़ी को पछाड़कर यह रैंकिंग अपने नाम की है। बैंडमिंटन वर्ल्ड फाउंडेशन के अनुसार लक्ष्य ने 8 टूर्नामेंट में 16,903 प्वाइंट बनाया जबकि चाईना के खिलाड़ी चिया हाओ ने 16,091 अंक बनाए।

उत्तरांचल स्टेट बैंडमिंटन एसोसिएशन के प्रेसिडेंट अशोक कुमार व वाईस प्रेसिडेंट संजय गुंज्याल ने लक्ष्य को बधाईयां देते हुए खुशी जाहिर की है।उन्होंने कहा कि यह हमारे पूरे राज्य क लिए गर्व की बात है।लक्ष्य से पहले उनके बड़े भाई चिराग सेन विश्व रैंकिंग में दूसरे स्थान पर थे लेकिन लक्ष्य कि इस परर्फामेंस ने उनके बड़े भाई की एक नंबर पर आने की चाह को पूरा कर दिया है।