उत्तराखंड में कुमाऊंनी पिछौड़ा है महिलाओं के लिए खास

0
232

अगर आप उत्तराखंडी हैं तो आपने गौर किया होगा कि पूरे कुमाऊं क्षेत्र में, शुभ अवसरों पर, महिलाओं को लाल और चमकीले पीले रंग का ”दुपट्टा यानि की पिछौड़ा” पहनती हैं। स्थानीय भाषा में इसे रंगोली पिछौड़ा या रंगवली पिछौड़ा कहा जाता है। शादी, नामकरण समारोह, व्रत, त्योहार, पूजा और अन्य महत्वपूर्ण और शुभ अवसरों पर दिन महिलाएं बिना किसी प्रतिबंध के इस पवित्र पिछौड़ा को पहनती हैं।

पिछौड़ा का महत्वः

पिछौड़ा उत्तराखंड की महिलाओं को वही महत्व देता है जो पंजाबी महिलाओं को चूड़ा, बंगाली महिलाओं को शाखा और पोला और लद्दाख की महिलाओं को पेराख देता है। उत्तराखंड में पिछौड़ा एक विवाहित महिला के लिए उसके सुहाग की निशानी के तैर पर भी देखा जाता है। पिछौड़ा उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में विवाह का एक महत्वपूर्ण अंग है, अपनी शादी में महिलाएं पिछौड़ा पहली बार पहनती है, उसके बाद विवाहित महिलाओं के लिए विशेष अवसरों पर पहनने के लिए एक अनुष्ठान बन जाता है।

पिछौड़े का डिजाईनः

चटख पीले रंग का पिछौड़े के बीच में लाल रंग से ऐपड़ का डिजाईन बना होता है। ऐपड़ के इस डिजाईन के साथ-साथ पिछौड़ा में स्वस्तिक और ओम चिन्ह भी बनाये जाते हैं। भारतीय संस्कृति में, ये दोने ही चिन्ह महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

“ओम” पूरी दुनिया को एक छोटे से चिन्ह में दर्शाता है और स्वास्तिक विश्व में शांति और मित्रता के जाना जाता है। स्वस्तिक के चारों कोनों पर सूरज, चंद्रमा, शेल और घाट के चारों कोने पर खींचा जाता है और डिजाइन की तरह इसे पिछौड़ा के पूरे फीते सिक्के पर भी बनाया जाता है। इस डिजाईन को बनाने के बाद पिछौड़ा के बॉर्डर को तैयार किया जाता है।

कुमाऊंनी महिलाओं के जीवन में पिछौड़ा का महत्वः

पिछौड़ा का महत्व प्राचीन काल से है। विवाह के समय दुल्हन के माता-पिता अपनी बेटी को इस पिछौड़े को देते हैं, जो बेटी विदाई के समय पहनती हैं। उत्तराखंड में, पिछौड़ा लोगों के जीवन में इस कदर शामिल है कि शुभ अवसरों के साथ-साथ ”सुहागन” महिला के अंतिम संस्कार के समय भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। पिछौड़ा पूर्णता का प्रतीक है, लाल रंग महिलाओं के विवाहित जीवन की स्वास्थ्य और खुशी को दर्शाएं, जबकि पीला बाहरी विश्व से महिलाओं के संबंध को दर्शाती है।

पिछौड़ा उत्तराखंडी महिलाओं के लिए पूर्णता का प्रतीक है, इसमें लाल रंग महिलाओं के विवाहित जीवन की खुशी को दर्शाता है, जबकि पीला बाहरी विश्व से महिलाओं के संबंध को दर्शाता है।