उत्तराखंड मानसून सत्र: पांच दिन, 28 घंटे 22 मिनट, आठ विधेयक पारित

0
94
विधानसभा

उत्तराखंड विधानसभा के मानसून सत्र में 5 दिन में सदन के उपवेशन की समाप्ति तक की कुल 28 घंटे 22 मिनट की कार्यवाही चली। सदन पटल पर कुल 8 विधेयक पारित हुए। इस दौरान 23 याचिका स्वीकृत की गईं। शनिवार को राज्य के सतत विकास लक्ष्य पर सदन में 17 बिन्दु पर चर्चा होगी। सदन की कार्यवाही शनिवार पूर्वाह्न 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

विधानसभ अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने 23 अगस्त से आहूत पांच दिवसीय मानसून सत्र की कार्यवाही की पत्रकारों को जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सदन में उपस्थिति अच्छी रही। अनेक घोषणा की गईं। पहले दिन 23 अगस्त को 6.19 मिनट, 24 को 6.23 मिनट, 25 को 6.43 मिनट, 26 को 32 मिनट व्यवधान रहा,जबकि 27 अगस्त को 5 घंटे सदन की कार्यवाही चली।

उन्होंने बताया कि मानसून सत्र कोरोना प्रोटकॉल की परिस्थितियों में शांतिपूर्वक संचालित हुआ। शनिवार को सतत विकास लक्ष्य पर पूरे दिन सदन में चर्चा होनी है। मुख्यमंत्री से भी उपस्थित रहने का आग्रह किया गया है। राज्य के लिए यह उपयोगी साबित होगा। उत्तरप्रदेश के बाद उत्तराखंड दूसरा राज्य है जो इस प्रकार की चर्चा करेगा। उन्होंने कहा कि तय एजेंडा के तहत पांच दिन सत्र चला है। 28 अगस्त को राज्य के विकास पर चर्चा होगी।

अग्रवाल ने कहा कि सदन के भीतर अधिकांश कार्यवाही हास्य -परिहास के माध्यम से सौहार्दपूर्ण वातावरण में सम्पन्न हुई। अध्यक्ष ने विपक्ष एवं पक्ष के सभी सदस्यों का सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने बताया कि पांच दिनों में सदन के उपवेशन की समाप्ति तक की कार्यवाही 28 घंटे 22 मिनट चली।

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेशहित और जनहित के अनेक विषयों पर सदन में दोनों दलों की ओर से शांतिपूर्वक गंभीर चिंतन-मनन किया गया। विपक्ष एवं सत्तापक्ष ने सदन में सकारात्मक भूमिका निर्वहन किया।उन्होंने कहा कि सत्र के दौरान उनका प्रयास रहा कि सदस्यों को अपने क्षेत्रों के विषयों पर अपना अभिमत प्रस्तुत करने और जनमानस की भावनाओं को सदन के माध्यम से सरकार तक पहुंचाने के अधिकतम अवसर प्रदान किए जाएं।

64 प्रश्न अस्वीकरः सत्र के दौरान विधानसभा को 789 प्रश्न प्राप्त हुए, जिसमें स्वीकार 27 अल्पसूचित प्रश्न में 8 उत्तरित, 197 तारांकित प्रश्न में 59 उत्तरित, 496 आताराकिंत प्रश्न में 267 उत्तरित किये गये। कुल 64 प्रश्न अस्वीकार एवं 5 विचाराधीन रखे गए।

सभी सदस्यों के 25 वीं बार तरांकित प्रश्न हुए उत्तरितः विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि सत्र के दौरान 25 वीं बार ऐसा हुआ कि सदन के भीतर प्रश्नकाल में सदस्यों द्वारा पूछे गये सभी तारांकित प्रश्न निश्चित समायावधि (1 घण्टा 20 मिनट) में उत्तरित हुए। अध्यक्ष ने सदन के अंदर बाहर बेहतर इंतजाम एवं अच्छी व्यवस्था के लिए विधानसभा के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी धन्यवाद के पात्र हैं। अग्रवाल ने स्थानीय शासन, पुलिस प्रशासन और मीडिया कर्मचारियों का का सत्र के सफल संचालन के लिए धन्यवाद किया।

सभी याचिकाएं स्वीकृतः 23 याचिकाओं में से सभी स्वीकृत की गईं। नियम 300 में प्राप्त 108 सूचनाओं में से 21 सूचनाएं स्वीकृत, 25 सूचनाएं ध्यानाकर्षण के लिए, नियम 53 में 70 सूचनाओं में 6 स्वीकृत एवं 21 ध्यानाकर्षण के लिये रखी गई। नियम 58 में प्राप्त 22 सूचनाओं में 20 को स्वीकृत किया गया। नियम 299 में 2 सूचना प्राप्त हुई, जो कि स्वीकृत की गईं।

सदन पटल से 8 विधेयक पारित:

1. उत्तराखंड विनियोग (2021-22 का अनुपूरक) विधेयक, 2021
2. आई एम एस यूनिसन विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक, 2021,
3. डी आई टी विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक, 2021
4. उत्तराखण्ड माल और सेवा कर (संशोधन) विधेयक, 2021
5. हिमालयन गढ़वाल विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक, 2021
6. उत्तराखण्ड फल पौध़शाला (विनियमन) (संशोधन) विधेयक, 2021
7. उत्तराखंड नगर निकायों एवं प्राधिकरणों हेतु विशेष प्राविधान (संशोधन) विधेयक, 2021
8. दून इंस्टीट्यूट आॅफ मेडिकल साइंसेज (डीआईएमएस) विश्वविद्यालय (संशोधन) , 2021

इसके अलावा दो असरकारी विधेयक सदन पटल पर रखे गए, दोनों विधेयक सदन में पटल से अस्वीकार किए गए।

1. उत्तराखण्ड (उत्तर प्रदेश जमींदारी विनाश और भूमि व्यवस्था अधिनियम, 1950) (संशोधन) विधेयक, 2021
2. उत्तराखण्ड चार धाम देवस्थानम् प्रबन्धन (निरसन) विधेयक, 2021