उप्र के विधायक के काफिले ने किया लॉक डाउन का उल्लंघन, 12 लोगों के खिलाफ मुकदमा

0
131
उत्तर प्रदेश के विधायक अमन मणि त्रिपाठी समेत 12 लोगों के खिलाफ टिहरी जिले के मुनी की रेती थाना अंतर्गत व्यासी पुलिस चौकी में रविवार रात  लॉक डाउन के उल्लंघन के आरोप में मुकदमा दर्ज हुआ है। वह पूरे लाव-लश्कर के साथ ऋषिकेश से बद्रीनाथ जा रहे थे। यह जानकारी सोमवार को मुनी की रेती थाना प्रभारी आरके सकलानी ने दी।
उन्होंने बताया कि नौतनवा से विधायक त्रिपाठी अपने 11 साथियों के साथ लॉक डाउन का उल्लंघन कर बद्रीनाथ जा रहे थे। व्यासी में उनके काफिले को जांच के लिए रोका गया। त्रिपाठी की फॉर्च्यूनर कार व उनके काफिले की दो अन्य कारों की जांच की गई। त्रिपाठी ने अपर जिलाधिकारी देहरादून की अनुमति दिखाई। इसमें विधायक के अलावा आठ लोगो की अनुमति थी। मगर तीनों गाड़ियों में चार-चार  लोग थे।  प्रशासन की अनुमति एक कार में सिर्फ तीन लोगों के बैठने की थी।
थाना अध्यक्ष ने कहा कि इनमें से किसी ने भी मास्क नहींं पहना था। व्यासी चौकी में प्रभारी निरीक्षक ने इनके खिलाफ 55/20, धारा 188/269/270, 2/3 महामारी अधिनियम और 51 आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत अभियोग पंजीकृत कराया गया है। इनमें विधायक अमन मणि त्रिपाठी,  विनय सिकरवाल, मनीष, संजय, उमेश चौबे, रितेश यादव, अजय यादव,ओम प्रकाश यादव, जय प्रकाश तिवारी, रामजी प्रसाद तिवारी, सुधाकर मिश्र, मायाशंकर, श्रीप्रकाश शामिल हैं। सभी से चौकी में पूछताछ की गई। इसके बाद इनको 41 सीआरपीसी के नोटिस के बाद टिहरी जनपद की सीमा से बाहर किया गया।

एक ओर कोविड-19 के चलते पूरे देश में डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट लागू है,डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के तहत धार्मिक प्रतिष्ठान पूरी तरह से आम जनता के लिए बंद है। सवाल ये उठता है कि आखिर बद्रीनाथ धाम के कपाट बंद होने के बावजूद अमनमणि त्रिपाठी उत्तराखंड में प्रवेश क्यों करने दिया गया।

अपर मुख्य सचिव ओमप्रकाश के अलावा देहरादून के अपर जिलाधिकारी ने भी अनुमति पत्र जारी किया था।अमनमणि त्रिपाठी को और उनके साथ आये किसी को भी किसी भी जिलाधिकारी ने कोरेन्टीन नही किया। जब चमोली में उनको रोका गया तो तीन गाड़ियों में चमोली पहुंचे अमनमणि त्रिपाठी ने एसडीएम कर्णप्रयाग के साथ भी बदसलूकी करने लगे। ऐसे में कही न कही उत्तराखंड प्रशासन पर सवाल खड़े होते हैं कि इस खतरनाक महामारी में जहाँ जनता लॉक डॉउन का पालन कर रही है तो राजनेता ही उसका उल्लंघन कर रहे हैं।