गढ़वाल और कुमाऊं मंडल में दो और हार्ट यूनिट खुलेगी : मंत्री धन सिंह रावत

0
155
हार्ट

अब प्रदेश के हृदय रोगियों को पीपीपी मोड में संचालित मेडिट्रीना ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल के हार्ट सेंटर में हार्ट सर्जरी व अन्य कार्डिक डिजीज का बेहतर और सस्ता उपचार की सुविधाएं मिलेंगी। यही नहीं इस सेंटर में सीजीएचएस लाभार्थियों, आयुष्मान कार्ड धारकों व आरबीएसके योजना के अंतर्गत विशेष छूट के साथ लोगों का इलाज किया जायेगा।

शुक्रवार को कोरोनेशन अस्पताल में स्वास्थ्य मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने मेडिट्रीना हार्ट सेंटर के उद्घाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि यह बातें कही। इससे पहले स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने मेयर सुनील उनियाल गामा व क्षेत्रीय विधायक खजान दास की मौजूदगी में मेडिट्रीना हार्ट सेंटर का रिबन काट कर विधिवत उद्घाटन किया।

इस दौरान मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग और मेडिट्रीना ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल के बीच स्वास्थ्य विभाग की ओर से अनुमन्य दरों पर हृदय संबंधी रोगों का बेहतर उपचार का अनुबंध किया गया है। मंत्री ने कहा कि देहरादून की तर्ज पर जल्द ही दो और हार्ट सेंटर गढ़वाल और कुमाऊं मंडल के सरकारी अस्पतालों में व्यवस्था की जाएगी। एक गढ़वाल के श्रीनगर में जो चारधाम का मुख्य मार्ग वहां पर और दूसरा कुमाऊं मंडल के हल्द्वानी में सेंटर खोला जाएगा। जहां पर बीपीएल कार्ड धारकों और छोटे बच्चों का हृदय संबंधी उपचार आरबीएसके योजना के तहत निःशुल्क किया जायेगा।

मंत्री ने कहा कि गर्भवती महिलाओं के लिये सभी जांचों एवं टीकाकरण के साथ जच्चा-बच्चा को खुशियों की सवारी योजना के तहत घर से अस्पताल व अस्पताल से घर पहुंचाने की व्यवस्था निःशुल्क दी जा रही है। दूर-दराज के क्षेत्रों के लिये आपातकालीन स्थिति में एयर एम्बुलेंस की सुविधा भी निःशुल्क उपलब्ध है।

आभा आईडी 27 लाख लोगों के बनाए गए

मंत्री ने कहा कि 2025 तक उत्तराखंड में डॉक्टरों की संख्या सरप्लस में होगी। डॉक्टरों, नर्सों व पैरामेडिकल स्टाफ की तैनाती के लिए भर्ती प्रक्रिया शुरू की गई है। तीन माह के भीतर 2,800 पदों पर नर्सिंग अधिकारियों की नियुक्ति की जाएगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 27 लाख लोगों की आभा आईडी बन चुकी है। 1.25 करोड़ लोगों की आईडी बनाई जानी है। अप्रैल तक सभी लोगों का आईडी बनाने की पूरी कोशिश की जाएगी। इससे प्रत्येक व्यक्ति का स्वास्थ्य संबंधित रिकॉर्ड सुरक्षित रहेगा।

अब तक 50 लाख कार्ड बन चुके हैं

मंत्री ने बताया कि आयुष्मान योजना के तहत अब तक 50 लाख कार्ड बन चुके हैं। 26 लाख आयुष्मान कार्ड और बनाए जाने हैं। अब राशन कार्ड से आयुष्मान कार्ड बनाने की सुविधा दी गई है।

265 पैथोलॉजी जांचे और 429 दवाएं मुफ्त

मंत्री ने बताया कि प्रत्येक सरकारी अस्पतालों में 265 पैथोलॉजी जांचे निःशुल्क कराई जा रही हैं तथा 429 दवाएं मुफ्त दी जा रही हैं। प्रत्येक जिला अस्पताल में डायलिसिस की निःशुल्क सेवाएं उपलब्ध है और डायबिटीज के रोगियों के लिए अस्पतालों में इंसुलिन के इंजेक्शन मुफ्त दिये जा रहे हैं।

कोई भी व्यक्ति आयुष्मान योजना से ले सकता है लाभ

मेडिट्रीना ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल के बोर्ड एडवाइजर सिद्धार्थ ढौंडियाल ने बताया कि कोरोनेशन अस्पताल में स्थापित मेडिट्रीना हार्ट सेंटर दक्षिण भारत के कोलम स्थित मेडिट्रीना ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल की एक इकाई है। जहां पर विशेषज्ञ चिकित्सकों की ओर से बच्चों से लेकर हर उम्र के लोगों की हार्ट सर्जरी और अन्य कार्डियेक डिजीज का बेहतर उपचार किया जाता है। हार्ट सेंटर पर वर्तमान में ओपीडी, ईसीजी, ईको, टीएमटी, एंजियोप्लास्टी, सर्जरी व आरबीएसके सर्जरी की सुविधाएं उपलब्ध है। जिनमें एएसडी क्लोजर, आईसीआर, बेंटल, कैबैग जैसी जटिल हार्ट सर्जरी की सुविधा भी शामिल हैं, जोकि राज्य के अन्य अस्पतालों में उपलब्ध नहीं है। इन सुविधाओं का लाभ प्रदेश का कोई भी व्यक्ति आयुष्मान योजना के अंतर्गत ले सकता है।

इस मौके पर मेयर सुनील उनियाल गामा व क्षेत्रीय विधायक खजान दास ने स्वास्थ्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे कार्यों की जमकर प्रशंसा की।

कार्यक्रम में अपर सचिव स्वास्थ्य अमनदीप कौर, महानिदेशक स्वास्थ्य डॉ. विनीता शाह, सीएमओ देहरादून डॉ. मनोज उप्रेती, पीएमएस कोरोनेशन अस्पलात डॉ. शिखा जंगपांगी, डॉ यू.एस. कंडवाल, डॉ. तुहीन कुमार, मेडिट्रीना ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल के बोर्ड एडवाइजर सिद्धार्थ ढ़ौडियाल, सी.ओ.ओ. प्रवीन तिवारी, यूनिट इंचार्ज भावेश मोगा, कार्डिक सर्जन डॉ. विकास सिंह, कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. इरफान, डॉ. संदीप मालवीय, मनोज मिश्रा, पंकज शर्मा, कोमल सहित अस्पताल स्टॉफ व विभिन्न कॉलेजों के नर्सिंग छात्र-छात्राएं उपस्थित रहीं।