शिक्षक रमेश बडोनी का फुलब्राइट डीएआई परीक्षा के लिए चयन

0
127
फुलब्राइट डिस्टिंग्विश्ड अवॉर्ड
देवप्रयाग ब्लॉक के पुजार गांव निवासी शिक्षक रमेश प्रसाद बडोनी का चयन ‘फुलब्राइट डिस्टिंग्विश्ड अवॉर्ड इन टीचिंग प्रोग्राम फॉर इंटरनेशनल टीचर’ प्रतियोगिता के लिए हुआ है। शिक्षक की इस उपलब्धि पर क्षेत्र में खुशी की लहर है।
देवप्रयाग के राइंका मिसरास में भौतिक विज्ञान के प्रवक्ता रमेश प्रसाद बडोनी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वर्ष 2020-21 के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका की ओर से आयोजित होने वाले ‘फुलब्राइट डिस्टिंग्विश्ड अवॉर्ड इन टीचिंग प्रोग्राम फॉर इंटरनेशनल टीचर’ में प्रतिभाग करेंगे। देशभर से मात्र दो शिक्षकों का ही चयन इस प्रतियोगिता के लिए हुआ है। उत्तराखंड से पहली बार किसी शिक्षक का इस प्रतियोगिता में चयन हुआ है।
-अमेरिका में होने वाली इंटरनेशनल टीचर प्रतियोगिता में लेंगे हिस्सा
-प्रतियोगिता के लिए देश से केवल दो लोगों का हुआ है चयन 
रमेश बडोनी का चयन अमेरिका के लिए होने की खबर आते ही परिजनों व गांव वासियों में खुशी छा गयी। सिद्धपीठ चन्द्रवदनी के पुजारियों के गांव के रूप में प्रसिद्ध पुजार गांव को रमेश बडोनी ने विश्व भर में एक नई पहचान दी है। परिवार में चार भाईयों व दो बहनों में सबसे छोटे रमेश बडोनी के पिता स्व. रामप्रसाद बडोनी सैन्य अधिकारी थे, जिन्हे मरणोपरांत शौर्य चक्र व राष्ट्रीय पदक से सम्मानित किया गया था। उनकी माता प्रेमवती बडोनी बेटे की उपलब्धियों से काफी खुश हैं।
शिक्षाविद् व सेवानिवृत प्रधानाचर्य डॉ. सुरेंद्र दत्त सेमल्टी ने अपने पूर्व छात्र रहे रमेश बडोनी की उपलब्धियों पर हर्ष जताया है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड से इस पुरस्कार के लिए पहली बार रमेश का चयन होना बड़े गौरव की बात है। शिक्षक रमेश बडोनी राइंका रणसोलीधार के छात्र रहे थे। देवप्रयाग ब्लॉक प्रमुख सूरज पाठक, पूर्व प्रमुख जयपाल पंवार, चन्द्रवदनी मंदिर के मुख्य पुजारी पं. दाताराम भट्ट आदि ने रमेश बडोनी को शुभकामनाएं दी हैं।
फुलब्राइट डीएआई परीक्षा के लिए विश्वभर से आते हैं आवेदन 
फुलब्राइट डीएआई परीक्षा में दुनियाभर के शिक्षक आवेदन करते हैं। तीन चरणों में होने वाली जटिल चयन प्रक्रिया में स्क्रीनिंग टेस्ट, टॉफेल एग्जाम, कॉन्फ्रेंस इंटरव्यू और उत्कृष्ट अंकों के आधार पर चयनित किया जाता है। इसके बाद अंतिम चरण में अमेरिका की प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी में शैक्षिक उन्नयन के लिए तकनीकी आयामों पर शोध और परीक्षण प्रशिक्षण के लिए शिक्षकों को आमंत्रित कर प्रतिभाग करने का मौका दिया जाता है। शिक्षा में गुणवत्ता नवाचार के लिए शोध कार्य और संवर्धन तकनीकी पर शिक्षकों का योगदान प्राप्त किया जाता है। चयनित शिक्षक के सभी प्रकार के खर्चे अमेरिकी सरकार वहन करती है। इस प्रतियोगिता में चयनित शिक्षकों को अपने राज्य के लिए शिक्षकों और छात्रों की गुणवत्ता शिक्षा के लिए ऐसे संसाधन तैयार करना होता है जो उनके प्रदेश या देश की शिक्षा में अमूल्य योगदान दे सकें।