उत्तराखंड की मेजर सुमन गवानी को मिला संयुक्‍त राष्‍ट्र अवॉर्ड

0
479
मेजर सुमन
दक्षिण सूडान में 2019 में संयुक्त राष्ट्र मिशन में महिला शांतिदूत के रूप में सेवाएं प्रदान करने वाली भारतीय सेना की अधिकारी और मूल रूप से टिहरी की रहने वाली मेजर सुमन गवानी को प्रतिष्ठित ‘यूनाइटेड नेशंस मिलिट्री जेंडर एडवोकेट ऑफ द ईयर अवॉर्ड’ से सम्मानित किया गया।
अंतरराष्ट्रीय संयुक्त राष्ट्र शांतिदूत दिवस के अवसर पर शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय, न्यूयॉर्क में आयोजित किए गए एक ऑनलाइन समारोह के दौरान संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने उन्‍हें यह अवॉर्ड प्रदान किया। मेजर सुमन को यह अवॉर्ड ब्राजील की नौसेना अधिकारी कमांडर कार्ला मोंटेइरो डी कास्त्रो अरुजो के साथ संंयुक्त रूप से मिला।
मेजर सुमन ने नवम्बर 2018 से दिसम्बर 2019 तक यूएनएमआईएसएस में एक सैन्य पर्यवेक्षक के रूप में कार्य किया। मिशन में रहते हुए वह मिशन में सैन्य पर्यवेक्षकों के लिए महिलाओं से संबंधित मामलों के लिए संपर्क का प्रमुख केंद्र बिंदु थीं। उन्होंने क्षेत्र की अत्‍यंत कठोर परिस्थितियों के कारण होने वाली समस्‍याओं के बावजूद महिला-पुरुष संतुलन बरकरार रखने के लिए संयुक्त सैन्य गश्‍त में भागीदारी को प्रोत्साहित किया। उन्‍होंने मिशन की योजना और सैन्य गतिविधि में महिलाओं के परिप्रेक्ष्य को शामिल करने के लिए दक्षिण सूडान में विभिन्न मिशन टीम साइट्स का दौरा किया।
सैन्‍य अधिकारी सुमन को नैरोबी में संघर्ष से संबंधित यौन हिंसा (सीआरएसवी) पर एक विशेष प्रशिक्षण में भाग लेने के लिए चुना गया था। उन्‍होंने विभिन्न संयुक्त राष्ट्र मंचों में भाग लेकर बताया कि कैसे महिलाओं का परिप्रेक्ष्य, विशेषकर संघर्ष संबंधी यौन हिंसा से नागरिकों की रक्षा करने में मदद कर सकता है। उन्‍होंने सीआरएसवी से संबंधित पहलुओं के बारे में दक्षिण सूडान की सरकारी सेनाओं को प्रशिक्षित भी किया। भारतीय अधिकारी सुुुमन ने यूएनएमआईएसएस में आयोजित संयुक्‍त राष्‍ट्र शांतिरक्षक दिवस परेड में यूएनपीओएल, सैन्य और नागरिकों की बारह टुकड़ियों की कमान संभाली।