मंकीपॉक्स को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड पर

    0
    69
    मंकीपॉक्स
    FILE

    चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने देश में मंकीपॉक्स के बढ़ते खतरों के बीच स्वास्थ्य विभाग को अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने विभागीय उच्चाधिकारियों को मंकीपॉक्स को लेकर पहले ही सर्तकता बरतने एवं गाइडलाइन जारी करने को कहा है।

    चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत के एक्शन पर स्वास्थ्य विभाग ने मंकीपॉक्स से बचाव के लिए तत्काल हेल्थ एडवाइजरी जारी कर सभी मुख्य चिकित्साधिकारियों को एक्टिव रहने को कहा है। जनपद स्तर पर मंकीपॉक्स के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिये कड़ी निगरानी करने व सर्विलांस सिस्टम को मजबूत करने के निर्देश जिलाधिकारियों और मुख्य चिकित्साधिकारियों को दिये हैं।

    चिकित्सा स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने बताया कि देश में बढ़ते मंकीपॉक्स के खतरों को लेकर स्वास्थ्य विभाग को अलर्ट मोड में रहने के निर्देश दिये गये हैं। उन्होंने बताया कि एहतियात के तौर पर भारत सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के अंतर्गत मंकीपॉक्स से बचाव एवं सर्तकता बरतने के लिये स्वास्थ्य विभाग ने एसओपी जारी कर दी है।

    स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि जनपद स्तर पर मंकीपॉक्स के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिये कड़ी निगरानी रखी जायेगी, जिसके लिये विभागीय अधिकारियों को सर्विलांस सिस्टम मजबूत करने को कहा गया है। प्रत्येक चिकित्सा इकाइयों एवं मेडिकल कॉलेजों में मंकीपॉक्स के लिए पृथक से आइसोलेशन की व्यवस्था एवं नोडल अधिकारी नामित करने को कहा गया है। इसके साथ ही चिकित्सालयों में रोगियों की जांच एवं उपचार के लिए पर्याप्त दवाएं उपलब्ध करने के निर्देश भी विभागीय अधिकारियों को दिये गये हैं।

    उन्होंने कहा कि राज्य में मंकीपॉक्स के एक मामले को भी प्रकोप माना जायेगा। इस निर्देश पर प्रभारी सचिव स्वास्थ्य डॉ. आर. राजेश कुमार ने विभाग को अलर्ट मोड में रहने को कहा है। इसके साथ ही सभी जनपदों में जिलाधिकारियों एवं मुख्य चिकित्साधिकारियों को मंकीपॉक्स को लेकर निगरानी बढ़ाने को कहा गया है। उन्होंने बताया गया कि एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम के तहत सभी जिला निगरानी इकाइयों के माध्यम से संक्रमण के मामलों, समूहों की तेजी से पहचान करने एवं संक्रमण के प्रसार को तुरंत रोकने के निर्देश दिये गये हैं।

    उन्होंने बताया कि संदिग्ध मामले मिलने पर इसकी सूचना तत्काल उच्च स्तरीय अधिकारियों को दी जायेगी, जांच नमूनों को नामित प्रयोगशालाओं को भेजने एवं संदिग्धों को अलग वार्ड और आइसोलेशन में रखे जाने सहित अन्य जरूरी निर्देश जारी कर दिए गए हैं।