थम नहीं रही भाजपा के दो विधायकों की कलह, पार्टी हुई सख्त

0
70
state BJP preparing to take strict action in fight between two legislators
Pranav Singh Champion and Deshraj Karnwal

बीजेपी विधायकों के बीच जंग पार्टी के लिये परेशानी का सबब बन गई है। बात यहां तक पहुंच गी है कि पार्टी नेतृत्व और जांच कमेटी की हिदायत के बावजूद खानपुर विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन ने कुछ दिन पहले ही फिर अपने बयान से इस आग में घी डाल दिया है। हांलाकि पार्टी ने अब इस विवादित बयान को गंभीरता से लिया है। माना जा रहा कि यदि विधायक चैंपियन 24 मई को जांच कमेटी के समक्ष पेश नहीं होते हैं और जांच में सहयोग नहीं करते हैं तो पार्टी नेतृत्व विधायक विवाद प्रकरण में कोई निर्णायक कदम उठा सकता है।

विधायक चैंपियन और झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल के बीच छिड़ी जुबानी जंग के सरकार व संगठन के हस्तक्षेप के बाद भी न थमने पर पार्टी ने प्रकरण की जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी गठित की। जांच कमेटी के संयोजक विधायक खजानदास ने दोनों विधायकों को हिदायत दी थी कि जांच पूरी होने तक वे ऐसा कोई बयान न दें, जिससे सरकार और संगठन की छवि पर असर पड़े। बावजूद इसके विधायक चैंपियन ने हाल में रुड़की में प्रेस कांफ्रेंस कर विधायक कर्णवाल के साथ ही सरकार पर भी निशाना साधा।

गौरतलब है कि विधायक देशराज कर्णवाल समेत झबरेड़ा के भाजपा नेता जांच कमेटी के समक्ष अपना पक्ष रख चुके हैं। वहीं विधायक चैंपियन पहले लोकसभा चुनावों में व्यस्त रहने और फिर एक सम्मेलन में भाग लेने के कारण दो बार निर्धारित तारीकों पर जांच कमेटी के समक्ष नहीं पहुंच पाए थे। अब जांच कमेटी ने विधायक चैंपियन को 24 मई को पेश होकर अपना पक्ष रखने के लिए कहा है।

प्रदेश मीडिया प्रमुख डॉ.देवेंद्र भसीन ने कहा कि 24 को प्रदेश भाजपा कार्यालय में जांच कमेटी की बैठक होगी, जिसमें समिति के संयोजक खजानदास, सदस्य विश्वास डाबर व कुलदीप कुमार मौजूद रहेंगे। जांच कमेटी के संयोजक ने विधायक चैंपियन को इसी दिन सुबह 11 बजे कमेटी के समक्ष उपस्थित होने को कहा है। इसी दिन कुछ अन्य पदाधिकारी व कार्यकर्ता भी समिति के सम्मुख पेश होंगे।

डॉ.भसीन ने बताया कि जांच समिति विधायक विवाद प्रकरण में सभी दस्तावेज एकत्र कर चुकी है। इसमें कमेटी गठित होने से पहले और इसके बाद आए बयानों का संज्ञान लिया गया है। बैठक के बाद कमेटी अपनी रिपोर्ट व संस्तुतिया प्रदेश अध्यक्ष को प्रेषित करेगी, जिसके आधार पर कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।