उत्तराखंड में गुरुवार से 83 रूटों पर चलेंगी रोडवेज, अंतर्राज्यीय रूटों पर करना होगा इंतजार

0
99
उत्तराखंड

उत्तराखंड में राज्य परिवहन निगम की बसों का 25 जून से परिचालन शुरू किया जाएगा। यह निर्णय राज्य परिवहन निगम की बोर्ड की मंगलवार को हुई एक महत्वपूर्ण बैठक में किया गया। राज्य सरकार पिछले हफ्ते हुई कैबिनेट बैठक में पहले ही किराए में बढ़ोतरी का निर्णय कर चुकी है। फिलहाल देहरादून मंडल के 37, नैनीताल मंडल के 36 और टनकपुर मंडल के 10 रूटों पर बसों का परिचालन किया जाएगा लेकिन अंतर्राज्यीय रूटों पर परिचालन के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) नहीं मिला है।

  • देहरादून मंडल के 37, नैनीताल मंडल के 36 और टनकपुर मंडल के 10 रूटों पर होगा परिचालन

अपर मुख्य सचिव ओमप्रकाश की अध्यक्षता में हुई परिवहन निगम की बोर्ड बैठक में यह निर्णय किया गया, जिसके मुताबिक पहले चरण में राज्य के खास 83 मार्गों पर ही बसों का परिचालन किया जाएगा। जैसे-जैसे यात्रियों की तादाद बढ़ेगी, उसी अनुपात में बसों की संख्या में भी इजाफा किया जाएगा। बैठक में परिवहन निगम की ओर से टाटा और अशोक लीलैंड कंपनियों से खरीदी गई 300 नई बसों के लिए 74 करोड़ रुपये के बजट को भी मंजूरी दी गई। इसके लिए परिवहन निगम आईसीआईसीआई और हुडको बैंक से 74 करोड़ रुपये का कर्ज लेगा।

गुरुवार से बसों के परिचालन के लिए परिवहन निगम ने एडवाइजरी जारी कर दी है। इसके तहत तीन यात्रियों वाली सीट पर दो और दो यात्री वाली सीट पर एक व्यक्ति को ही बैठने की अनुमति होगी। एडवाइजरी में यात्रियों के लिए मास्क की अनिवार्यता के साथ ही सैनिटाइजेशन आदि की जिम्मेदारी परिचालकों को सौंपी गई है। सभी बसों में ड्राइवर-कंडक्टर के लिए अलग से केबिन बनाना होगा। बसों में कोरोना संक्रमण के जागरुकता से जुड़े स्टीकर भी लगाने होंगे। बसों के रवाना होने से पहले ड्यूटी पर तैनात अधिकारियों को सैनिटाइजेशन का प्रमाणपत्र देना होगा। बसों के साथ ही पूरे स्टेशन परिसर का प्रतिदिन सैनिटाइजेशन कराना होगा।

पहले चरण में देहरादून से मसूरी, बड़कोट, पुरोला, टिहरी, उत्तरकाशी, जोशीमठ, बीरोंखाल, श्रीनगर, हरिद्वार, कालसी, विकासनगर, ऋषिकेश, रुड़की के लिए बसों का परिचालन किया जाएगा। हरिद्वार डिपो की जेएनएनयूआरएम की बसों को हरिद्वार से लक्सर, ऋषिकेश एम्स रुड़की, देहरादून, लक्सर से देहरादून, नारसन के लिए बसों का परिचालन किया जाएगा। रुड़की डिपो की ओर से देहरादून और हरिद्वार, ऋषिकेश के लिए बसें चलाई जाएंगी।

नैनीताल मंडल में रानीखेत से हल्द्वानी, अल्मोड़ा, बागेश्वर, टनकपुर, भवाली से नैनीताल रामनगर, नैनीताल, हल्द्वानी, नौकुचियाताल, घोड़ाखाल के लिए बसें चलेंगीं। इसके अलावा रामनगर से टनकपुर, हल्द्वानी, नैनीताल, काशीपुर, जसपुर, काशीपुर से टनकपुर, हल्द्वानी, रुद्रपुर से हल्द्वानी, टनकपुर, खटीमा, काशीपुर के लिए बसों का परिचालन होगा। हल्द्वानी डिपो से नैनीताल, जंगलिया गांव, पिथौरागढ़, टनकपुर, चोरगलिया टनकपुर के लिए परिचालन होगा। काठगोदाम डिपो से टनकपुर, नैनीताल, जसपुर के लिए बसें चलाई जाएंगी। इसी तरह टनकपुर से नैनीताल, चोरगलिया, काशीपुर, हल्द्वानी, लोहाघाट से हल्द्वानी और नैनीताल,  पिथौरागढ़ से अल्मोड़ा, हल्द्वानी, नैनीताल और धारचूला के लिए बसों का परिचालन किया जाएगा।

परिवहन निगम के जनरल मैनेजर दीपक जैन के अनुसार फिलहाल फिलहाल वॉल्वो के साथ ही वातानुकूलित बसों के संचालन पर रोक है। निगम की नियमित बसों के अलावा अनुबंधित बसों का भी परिचालन नहीं किया जाएगा। फिलहाल बसों का परिचालन यात्रियों की संख्या पर निर्भर होगा। अगर यात्री कम होंगे तो ड्यूटी पर तैनात स्टेशन प्रभारी को बस नहीं चलाने का अधिकार होगा।