रामदेव के योगग्राम में उड़ रही कोरोना नियमों की धज्जियां

0
219
रामदेव
योगगुरु बाबा रामदेव इन दिनों जहां अपने विवादित बयानों को लेकर सुर्खियों में हैं वहीं कोरोना कर्फ्यू की भी जमकर धज्जियां उड़ा रहे हैं। इस वैश्विक महामारी में देशभर के सभी स्कूल, जिम, योगशालाएं बंद हैं। शादी-विवाहों को सरकार ने रद्द करने का फरमान भी सुना दिया है। इतना ही नहीं श्मशान घाटों पर भी केवल 20 लोग ही शामिल हो सकते हैं। कोरोना गाइडलाइन का पालन न करने पर तमाम जगहों पर चालान की प्रक्रिया बदस्तूर जारी है। वहीं, दूसरी ओर बाबा रामदेव रोजाना 100 से ज्यादा लोगों को इकट्ठा कर योग करवाते नजर आ रहे हैं। प्रशासन को इस बात की कोई खबर ही नहीं है।
दरअसल, योग गुरु बाबा रामदेव कोविड-19 की गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाते हुए योगग्राम में 100 से ज्यादा लोगों को इकट्ठा कर योग करवा रहे हैं। हालांकि, योग करवाना कोई बुरी बात नहीं है, लेकिन जब सरकार और देशभर के डॉक्टरों ने यह कह दिया है कि एक जगह पर इतनी भीड़ नहीं होगी तो भला बाबा इस बात को क्यों अनसुना कर रहे हैं। सवाल यह भी उठ रहा है कि जिलाधिकारी और एसएसपी के कार्यालय के नजदीक बना योगग्राम कैसे सरकारी नजरों से अब तक दूर है? क्या बाबा ने इन सब लोगों को जुटाने की कोई परमिशन ली है या नहीं? बाबा रामदेव रोज सुबह 5 बजे से 8 बजे तक अपने निजी चैनल पर योग का लाइव प्रसारण करते हैं। वो योगग्राम में लोगों को इकट्ठा कर योग करवाते नजर आ रहे हैं। यहां पर देश के अलग-अलग राज्यों से लोग आए हुए हैं। कल सुबह के कार्यक्रम में जब बाबा योग करवा रहे थे, उस समय भी करीब 100 से ज्यादा लोगों की भीड़ योग ग्राम में बाबा के इस योग कार्यक्रम में मौजूद थी। इस कार्यक्रम में मास्क की बात करना तो बेईमानी सा लगता है। क्योंकि, कोई यहां मास्क पहने नजर नहीं आया है। बाबा रामदेव अपने भक्तों से यह कहते हुए भी सुनाई दिए कि पूरे देश में भले ही लॉकडाउन हो, लेकिन देश का एकमात्र ऐसा गांव हैं जहां पर किसी तरह का कोई लॉकडाउन नहीं है। यहां रोज योग चल रहा है। बाबा अपने समर्थकों से यह भी कह रहे हैं कि वह दावे के साथ कहते हैं कि अगले 100 सालों तक बाबा रामदेव को कोविड-19 क्या कोई भी बीमारी नहीं छू सकती। इस पूरे मामले पर प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों को भी इस बात की जानकारी नहीं है।
हरिद्वार एसडीएम गोपाल सिंह चौहान कहते हैं कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है कि योग ग्राम में लोगों की भीड़ जुटी हुई है। ऐसे में प्रशासन पूरी तरह से बेखबर नजर आ रहा है।