पेटीएम से कैसे खायेंगे बाल मिठाई: राहुल गांधी

0
938

शुक्रवार को अल्मोड़ा में आयोजित जन आशीष रैली में उपस्थित विशाल जन समूह को सम्बोधित करते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाॅधी ने कहा कि 08 नम्बर को मोदी जी के नोटबन्दी के निर्णय के बाद देशभर में 100 लोगो की मौत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि गरीब लोग कुछ बनाने में अपनी जिन्दगी लगा देते है। लोग अपना खून पसीना बहाकर, बीमारी का इलाज, अपने बच्चो की शिक्षा आदि के लिए धनराशि जमा रखते है नोटबन्दी से मोदी जी ने गरीबो, किसानो, मजदूरो, मध्यम वर्ग पर चोट की है। 

उन्होंने शायराना अंदाज में नोटबन्दी के असर पर शायर बशीर बद्र की ‘‘लोग टूट जाते है एक घर बनाने में तुम तरस नहीं खाते बस्तियाॅ जलाने में‘‘ तथा फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन की फिल्म के गीत ‘‘अपना तो बस यही सपना राम नाम जपना पराया माल अपना‘‘ का भी जिक्र किया।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि मोदी जी तो मोबाइल व पेटीएम की बात करते है लेकिन बहराईच में जब उन्होंने लोगो को सम्बोधित किया तो लोग उनका भाषण नहीं सुन पाये। उन्होंने कहा कि क्या अल्मोड़ा के लोग मोहन सिंह खीम सिंह की बाल मिठाई पेटीएम से खायेंगे ?

राहुल ने कहा कि कांग्रेस भी देश से भ्रष्टाचार मिटाना चाहती है लेकिन नोटबन्दी से मोदी जी ने कालेधन के खिलाफ नहीं बल्कि आर्थिक डकैती की है। मोदी जी से हमने तीन मांग रखी जिनमें किसानो के कर्ज माॅफी, बिजली बिल की आधी माफी तथा किसानों के आनाज का वाजिब दाम दिया जाना शामिल है। मोदी जी यह तो नहीं कर रहे है लेकिन उन्होने 15 परिवारो का 1.40 लाख करोड़ का कर्ज माफ कर दिया है। मोदी जी ने मजदूरो का भी मजाक उड़ाया है उन्हें गडढा खोदने वाला बताया जबकि मजदूर गडढा नहीं खोदते बल्कि हिन्दुस्तान बनाते है।

उन्होंने कहा कि मोदी जी ने हिन्दुस्तान को दो भागो में बांट दिया है एक तरफ एक प्रतिशत उच्च धनी लोग है जबकि दूसरी ओर 99 प्रतिशत जनता, किसान और मजदूर है। उन्होंने इन ढाई सालो में एक प्रतिशत लोगो को 60 प्रतिशत धन दिया है जो उनके पास बैठते है। हिन्दुस्तान का काला धन 99 प्रतिशत ईमानदार लोगो के पास नहीं है पूरा धन काला धन कैश में नहीं है, और सारा कैश काला धन नहीं है। लोकसभा में  बीजेपी के मंत्री ने कहा कि स्वीस सरकार ने बैंक होल्डर की सूची दी है लेकिने वे इनका नाम राज्यसभा व लोकसभा में क्यों नहीं रखते है। मोदी जी ने सर्जिकल स्टाईक आन करप्शन नहीं इमानदार लोगों पर फायर बम्बिंग की है। महिलाओं व अन्य लोगों का घर में रखा ईमानदारी का पैसा उनसे छिन लिया है, किसान मजदूर को परेशानी में डाल दिया है। उत्तराखण्ड की मर्नीआर्डर व्यवस्था एवं यहां के पर्यटन पर इस नोटबन्दी से करारा प्रहार हुआ है। मोदी जी ने एक करोड युवाओं को रोजगार देने की बात की थी, आज सिडकुल आदि से लोग मजदूरों को हटा रहे है, पिछले सात सालों में देश में आज सबसे ज्यादा बेरोजगारी है। 

img_5999-1

इस अवसर पर मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि हमारी सरकार उत्तराखण्ड आन्दोलनकारियों, उत्तराखंडियत गाड गदेरो, गांव गरीब के कल्याण के लिये कार्य कर रही है। पिछले ढाई सालों में प्रदेश ने देवी आपदा के साथ ही राजनैतिक आपदा झेली है। 2013 का हताश उत्तराखण्ड पूरे जोश खरोश के साथ आगे बढ रहा है। आज उत्तराखण्ड देश के 6 चुंनिदा राज्यों में शामिल है। राज्य की प्रति व्यक्ति आय देश की प्रति व्यक्ति आय से दुगनी है। विकास के प्रत्येक पैरामीटर में हम आगे बढ़ रहे है। हमारा लक्ष्य है कि 2020 तक कोई व्यक्ति गरीब ना रहे। प्रदेश के प्रत्येक परिवार को एक कमाऊ सदस्य मिले। आज हम 1.74 लाख लोगो को सामाजिक पेंशन दे रहे है। 2017 तक हम 10 लाख लोगों को इसमें शामिल करेंगे। राज्य की तरक्की में से 1 प्रतिशत हिस्सा गरीबों, विधवा, विकलांगो को बाटेंगे, महिला सशक्तिकरण गांव व गरीबों के हित की बात करने वाला उत्तराखण्ड देश में अग्रणी राज्यों में है। हमने लोगों को 14 घंटे के बजाय 24 घंटे बिजली दे रहे है। 2018 तक सभी गांव सड़क से जोड देंगे। 

इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अंबिका सोनी, प्रदेश सह प्रभारी संजय कपूर, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, गृहमंत्री प्रीतम सिंह, सिंचाई मंत्री यशपाल आर्या, वन मंत्री दिनेश अग्रवाल, संसदीय सचिव मनोज तिवारी, विधायक नैनीताल सरिता आर्या, विधायक द्वाराहाट मदन बिष्ट, विधायक बागेश्वर ललित फस्र्वाण, राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा, विधायक मयुख महर, प्रकाश जोशी, खजान पाण्डे, विधायक राजकुमार, जिला पंचायत अध्यक्ष पार्वती मेहरा, औद्योगिक प्रधान सलाहकार मुख्यमंत्री रणजीत सिंह रावत, प्रकाश जोशी, प्रयाग जोशी, पीताम्बर पाण्डे, करन मेहरा, आनन्द रावत, पूरन रौतेला, आपदा प्रबन्धन उपाध्यक्ष प्रयाग भटट, महेन्द्र पाल, पूर्व मंत्री राम प्रसाद टम्टा, संजय साह जगाती, हरीश भाकुनी, भुवन कापड़ी, आदि उपस्थित थे।