स्वच्छता कलश का लोकार्पण कर राफ्टिंग टीम को दिखाई हरी झंडी

0
25
हरिद्वार, जल शक्ति मंत्रालय, नमामि गंगे और बीइंग भगीरथ मिशन के तत्वाधान में हरिद्वार चंडीघाट पर देवप्रयाग से गंगासागर तक राफ्टिंग के द्वारा जाने वाली टीम को शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। बीइंग भगीरथ द्वारा चण्डी घाट पर स्थापित विभिन्न सामग्री एकत्र करने वाले स्वच्छता कलश व गेम फोर गंगा का लोकार्पण तथा नुक्कड़ नाटक भी किया गया ।
कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पधारे कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने कहा की जल शक्ति मंत्रालय के सौजन्य से सेना के विभिन्न अंगो के अधिकारी, सीएसआईआर इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टॉक्सिकोलॉजी रिसर्च एवं भारतीय वन्य जीव संस्थान के वैज्ञानिको की एक टीम देवप्रयाग से गंगासागर तक राफ्टिंग एक्सपेडिशन करेगी जोकि 12 नवंबर तक राफ्टिंग अभियान में विभिन्न पड़ावों के किनारे रहने वाले जन मानस को गंगा की अविरलता और निर्मलता के प्रति जागरूकता एवं स्वच्छता सन्देश देने के कार्य के साथ जल संरक्षण के  प्रति भी जागरूक करेगी।
टीम गंगा के किनारे लगभग 34 पड़ावों पर विभिन्न गतिविधियों जैसे घाटों पर श्रमदान, गंगा स्वच्छता, रैलियां, नुक्कड़ नाटिका, बाल मेला, घाटों के किनारे वृक्षारोपण एवं अन्य जागरूकता के अभियान को क्रियान्वित करेगी। राफ्टिंग के दौरान वैज्ञानिक दल गंगा जल की जैव विवधता का सूक्ष्मता से अध्ययन भी करेंगे। इस अभियान का नेतृत्व वायु सेना के विंग कमांडर परमवीर सिंह कर रहे हैं।इस अभियान में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की बेटी सुहासिनी शेखावत भी राफ्टिंग दल में शामिल हैं।
ईडी फाइनेंस रोजी अग्रवाल ने बताया की बीइंग भगीरथ टीम द्वारा गंगा को स्वच्छ करने के लिए विभिन्न स्वच्छता कलश लगाए गये हैं जिसका लोकार्पण भी मंत्री ने किया। चार अलग तरह और अलग रंग देकर कलश लगाए गये हैं जिसमें पूजा में इस्तेमाल हुए पुष्प, पूजा सामग्री, पुराने कपड़े व अन्य सामग्री गंगा में ना डालकर श्रद्धालु इसमें डालें जिसे पुनः एकत्र कर बीइंग भगीरथ टीम पुनर्चक्रित करेगी। उन्होंने नमामि गंगे द्वारा किये जा रहे कार्यो के साथ साथ इस गंगा आमंत्रण कार्यक्रम के बारे में बताया।
बीइंग भगीरथ के राष्ट्रीय संयोजक शिखर पालीवाल ने कहा कि कार्यक्रम में बीइंग भगीरथ ने नमामी गंगे की सहयोगी संस्था के तौर पर नुक्कड़ नाटक, गेम फोर गंगा व स्वच्छता कलश के लोकार्पण के कार्यक्रम किए जिसमें सेवा मिशन, एसडीआईएमटी, लिटिल मैरी, के सैंकड़ों बच्चों ने भाग लिया। उन्होंने कहा कि भारत की सिंचाई की भूमि का अधिकांश भाग गंगा के जल से सिंचित होता है । गंगा को पवित्र रखना हम सब का पुनीत दायित्व है।
मंच पर राष्ट्रीय स्वछ गंगा मिशन के तकनीकी विभाग के निदेशक डॉ प्रवीण व दिव्य प्रेम सेवा मिशन के संयोजक संजय चतुर्वेदी ने कहा कि गंगा को स्वच्छ बनाने के लिए उसके किनारे वृक्षारोपण किया जाना बेहद जरूरी है। बीइंग भगीरथ की रुड़की, देहरादून और ऋषिकेश की टीम भी कार्यक्रम में सम्मिलित हुई।