उत्तराखंड को मिला नया मुख्यमंत्री, नेतृत्व परिवर्तन पर भाजपा में नाराजगी

0
151

नवनियुक्त मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को पदभार ग्रहण कर लिया। धामी के साथ तीरथ मंत्री मंडल के सभी पुराने मंत्रियों ने शपथ ली। इससे पहले धामी सतपाल महाराज, भुवनचंद्र खंडूरी, तीरथ सिंह रावत औऱ त्रिवेंद्र सिंह रावत से उनके आवास पर मिले। इस बीच पुष्कर सिंह धामी के शपथ लेने से पहले भाजपा में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर अंदरखाने नाराजगी की खबर आ रही है। हालांकि पार्टी का कहना है कि कोई नाराजगी नहीं है।

मंत्रिमंडल में सभी पुराने चेहरों को शामिल किया गया है। भाजपा का पूरा फोकस प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव पर है। इसी को ध्यान में रखते हुए सभी पुराने मंत्रियों को मंत्रिमंडल में जगह दी गई है। इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, निवर्तमान मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत, पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, सांसद अजय टम्टा, नरेश बंसल, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, संगठन महामंत्री अजेय सहित विधायक और नेता मौजूद रहे।

धामी को विधायक दल का नेता चुने जाने के फैसले से पार्टी के कुछ वरिष्ठ विधायक नाराज बताए जा रहे हैं। कांग्रेस पृष्ठभूमि के नेता पिछले कुछ वर्षों के दौरान भाजपा में आए हैं। साथ ही भाजपा पृष्ठभूमि के मंत्री रह चुके कुछ वरिष्ठ विधायक अपनी उपेक्षा को लेकर नाराज बताए जा रहे हैं।पुष्कर सिंह धामी सुबह से ही पूर्व मुख्यमंत्रियों और वरिष्ठ मंत्रियों के आवास पर जाकर मिल रहे हैं। उनका कहना है कि सभी वरिष्ठों के काम को आगे बढ़ाएंगे। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक का कहना है कि कहीं भी किसी तरह की कोई नाराजगी नहीं है। सभी विधायक एकजुट हैं और सभी देहरादून में ही मौजूद हैं।

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और मंत्री बिशन सिंह चुफाल के नाराज होने के साथ हरक सिंह रावत और सतपाल महाराज को लेकर चर्चा है।

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और मंत्री बंशीधर भगत ने कहा कि पुष्कर सिंह धामी के मुख्यमंत्री बनने से कोई विधायक नाखुश नहीं है। सब पार्टी के सिपाही हैं। एक युवा मुख्यमंत्री का मिलना हमारे लिए सुखद है। विधायक राजकुमार ठुकराल ने कहा कि पार्टी नेतृत्व का निर्णय सर्वोपरि है। नाराजगी की बात ठीक नहीं है।

बताया जा रहा है कि नाराज मंत्रियों से अमित शाह ने फोन पर बात की है। देहरादून में धन सिंह रावत और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के आवास पार्टी नेताओं को बैठक हुई। सांसद अजय भटृ सहित अन्य नेताओं को नाराज नेताओं को मनाने की जिम्मेदारी दी गई है। अलग-अलग स्थानों पर संगठन नेताओं की बैठक कर विरोध कम करने की कोशिश कर रहा है।