राष्ट्रपति कोविन्द विशेष ट्रेन से उत्तर प्रदेश के चार दिवसीय दौरे पर रवाना

0
254
राष्ट्रपति

राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द अपनी पत्नी के साथ शुक्रवार को दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से एक विशेष प्रेसीडेंशियल ट्रेन से उत्तर प्रदेश के कानपुर स्थित अपने पैतृक स्थान के लिए रवाना हो गए। इस मौके पर रेल मंत्री पीयूष गोयल और रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एवं सीईओ सुनीत शर्मा स्टेशन पर मौजूद थे।

राष्ट्रपति कोविन्द के साथ उनकी पत्नी सविता कोविन्द, बेटी स्वाति और बेटा प्रशांत आज दोपहर 12:45 बजे विशेष ट्रेन से चार दिवसीय उत्तर प्रदेश दौरे पर रवाना हो गए। राष्ट्रपति अपनी यात्रा के पहले चरण में कानुपर जाएंगे। इसके बाद 28 जून को राजधानी लखनऊ के लिए ट्रेन से ही रवाना होंगे। 29 जून को वे विशेष विमान से नई दिल्ली लौटेंगे।

राष्ट्रपति के लिए विशेष ट्रेन में दो खास बोगी (स्पेशल कोच) लगाई हैं। दोनों में बुलेटप्रूफ शीशे लगे हैं और सुरक्षा के लिए ट्रेन के आगे एक खाली इंजन भी जा रही है। यह ट्रेन अलीगढ़, टूंडला, फिरोजाबाद, इटावा होकर जाएगी, लेकिन इन स्टेशनों पर इसका ठहराव नहीं होगा। ट्रेन में एनएसजी की एक टीम भी राष्ट्रपति की सुरक्षा के लिए तैनात है।

यह ट्रेन शुक्रवार शाम को कानपुर देहात के झींझक स्टेशन और फिर रूरा स्टेशन पर ठहरेगी। इन दोनों ही स्टेशनों पर राष्ट्रपति अपने स्कूल के दिनों और अपनी सामाजिक सेवा के शुरुआती दिनों के पुराने परिचितों से बातचीत करेंगे। इसके बाद ट्रेन रात को कानपुर पहुंचेगी। कानपुर देहात के गांव परौंख में 27 जून को राष्ट्रपति को सम्मानित करने के लिए दो कार्यक्रम निर्धारित हैं।

यह पहला अवसर है, जब राष्ट्रपति अपना वर्तमान कार्यभार संभालने के बाद अपने जन्मस्थान का दौरा कर रहे हैं। वे पहले ही उस स्थान का दौरा करना चाहते थे, लेकिन महामारी के कारण योजनाएं अमल में नहीं आ सकीं। यह 15 साल की लंबी अवधि के बाद होगा कि एक मौजूदा राष्ट्रपति रेल यात्रा करेंगे।

आखिरी बार किसी राष्ट्रपति ने ट्रेन से यात्रा 2006 में की थी, जब डॉ एपीजे अब्दुल कलाम भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) में कैडेटों की पासिंग आउट परेड में भाग लेने के लिए दिल्ली से देहरादून के लिए एक विशेष ट्रेन में सवार हुए थे। रिकॉर्ड बताते हैं कि देश के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद अक्सर रेल यात्राएं करते थे।

राष्ट्रपति के रूप में पदभार ग्रहण करने के तुरंत बाद उन्होंने बिहार की अपनी यात्रा के दौरान सीवान जिले में अपने जन्मस्थान, जीरादेई का दौरा किया था। वे छपरा से विशेष प्रेसीडेंशियल ट्रेन में सवार होकर जीरादेई पहुंचे, जहां उन्होंने तीन दिन बिताए। उन्होंने देश भर में ट्रेन से यात्रा की। डॉ. प्रसाद के बाद अन्य राष्ट्रपतियों ने भी देश के लोगों से जुड़ने के लिए रेल यात्रा को प्राथमिकता दी।