डेंगू के साथ वायरल बुखार से लोग परेशान

0
37
ऋषिकेश, तीर्थ नगरी विभिन्न बीमारियों की जकड़न में है। स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही का खामियाजा लोगों को डेंगू समेत अन्य घातक बीमारियों का भुगतना पड़ रहा है। फॉगिंग के नाम पर खाना पूर्ति कर रहे निगम प्रशासन को लेकर भी लोगों में जबरदस्त आक्रोश है। डेंगू के कहर के साथ तीर्थ नगरी में वायरल बुखार ने भी लोगों की कमर तोड़ कर रख दी है। बारिश और फिर धूप निकलने की वजह से लगातार बदल रहा वातावरण लोगों की सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है।
इन दिनों शहर मे डेंगू के साथ साथ वायरल बुखार तेजी से फैला हुआ है। स्थिति ये है कि चाहे सरकारी अस्पताल हाे या निजी हर जगह वायरल के मरीज ओपीडी और वार्ड में भरे पड़े हैं। कुछ दिनों बंद चल रही बारिश पिछले एक सप्ताह से फिर शुरू हो गई है। बारिश रुकने के बाद धूप निकल आती है। सर्दी-गर्मी से लोगों को वायरल फीवर आ रहा है। एम्स हास्पिटल तक में रोगियों को बेड नही मिल पा रहे हैं। मौजूदा समय में आधे से अधिक मरीज वायरल फीवर से पीड़ित आ रहे हैं।
विशेषज्ञों का कहना है कि, “बुखार के कारण काफी डिहाइड्रेशन हो सकता है, जिससे और अधिक थकान हो सकती है। इसलिए काफी मात्रा में पानी और साफ सूप का सेवन करें। यदि बुखार के साथ उल्टी और दस्त भी हो रहा है, तो काफी मात्रा में तरल पदार्थ पीना और अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। पानी में एक चुटकी नमक और एक चम्मच चीनी डालकर पीने से इलेक्ट्रोलाइट्स की भरपाई होगी। “
राजकीय चिकित्सालय के डॉ मुकेश पांडे का कहना है कि, “वायरल फीवर को रोकना आसान नहीं है। उनमें से अधिकांश बुखार अत्यधिक संक्रामक होते हैं। एक से दूसरे में संक्रमण फैलता जाता है। दोबारा वायरल फीवर होने से खुद का बचाने के लिए स्वच्छ रहन-सहन और अच्छी प्रतिरक्षा प्रणाली महत्वपूर्ण है। ऐसे में खांसते, छींकते समय रूमाल या टिश्यू पेपर से मुंह और नाक को ढक लें। इससे आसपास के लोग संक्रमण से बच सकेंगे। खांसी, सर्दी या बुखार वाले लोगों के संपर्क में आने से बचें।”