तिस्पर्द्धा करने के लिये शीघ्र तैयार होगा एनआईटी उत्तराखंड : राज्यपाल 

    0
    108
    -एनआईटी श्रीनगर के छात्रों को उच्च गुणवत्ता परक शिक्षा मिलेगी : निशंक
    -एनआईटी उत्तराखंड के स्थायी परिसर का भूमि पूजन एवं शिलान्यास
    पौड़ी जिले में श्रीनगर के समीप सुमड़ी में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) उत्तराखण्ड के स्थाई परिसर का शनिवार को भूमि पूजन एवं शिलान्यास किया गया। इसके बाद अब स्थाई परिसर निर्माण प्रक्रिया शुरू हो जाएगा। इस दौरान उत्तराखंड की राज्यपाल बेबीरानी मौर्य कार्यक्रम की मुख्य अतिथि रहीं। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत और मानव संसाधन विकास मंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक अतिविशिष्ट अतिथि के तौर पर मौजूद रहे। कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत भी मौजूद रहे।
    राज्यपाल बेबीरानी मौर्य ने कहा कि मुझे विश्वास है कि एनआईटी उत्तराखंड राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर सर्वश्रेष्ठ प्रौद्योगिकी संस्थानों के साथ प्रतिस्पर्द्धा करने के लिये शीघ्र तैयार होगा। इस संस्थान को विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सेंटर आफ एक्सीलेंस बनने के लक्ष्य के साथ आगे बढ़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि एनआईटी के स्थाई कैम्पस के निर्माण से उत्तराखण्ड को विशेष रूप से श्रीनगर क्षेत्र की जनता को भी लाभ होगा। यहाँ विभिन्न प्रकार की आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा। युवाओं और महिलाओं को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे।
    मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि एनआईटी सुमाड़ी का सपना जल्द साकार होने जा रहा है। स्थाई कैंपस के शिलान्यास व भूमिपूजन के साथ इसकी शुरुआत हो गई है। 300 एकड़ में बनने वाला एनआईटी परिसर, पहाड़ में तकनीकी शिक्षा के विकास के साथ क्षेत्र के सामाजिक, आर्थिक जीवन में परिवर्तन लाने में भी मील का पत्थर साबित होगा।
    केन्द्रीय मंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा स्थायी परिसर के निर्माण से एनआईटी श्रीनगर के छात्रों को उच्च गुणवत्ता परक शिक्षा मिलेगी। नवाचार युक्त और गुणवत्ता परक प्रौद्योगिकी शिक्षा के माध्यम से श्रीनगर और आसपास के क्षेत्र के समग्र विकास के साथ यह संस्थान युवाओं को रोजगार दिलाने उनके भीतर उधमिता विकास करने और पलायन रोकने में मदद करेगा। हम पर्यावरण रक्षा के साथ ऐसे उद्योगों का विकास करेंगे जो रोजगार देंगे।
    उन्होंने कहा कि हम सब इस संस्थान को एक विश्वस्तरीय संस्थान बनाने का संकल्प लें। यह संस्थान लोगों की अपेक्षाओं पर खरा उतरेगा। राष्ट्रीय महत्व का यह संस्थान क्षेत्र के सामाजिक, आर्थिक जीवन में नया सूत्रपात करेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हिमालय के सतत विकास की अवधारणा को सच करते हुए सुमाड़ी श्रीनगर में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के स्थाई परिसर का शिलान्यास हुआ है।
    प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत ने कहा कि एनआईटी सुमाड़ी श्रीनगर के स्थायी परिसर बनने से प्रदेश में प्रौद्योगिकी शिक्षा को नया आयाम मिलेगा। 300 एकड़ में स्थापित होने वाला यह परिसर 640.94 करोड़ की लागत से बनेगा। कहा कि हमारा लक्ष्य है कि एनआईटी उत्तराखंड न केवल भारत में बल्कि वैश्विक रूप में अपनी पहचान बनाए। श्रीनगर संपूर्ण उत्तराखंड के शैक्षिक केंद्र के रूप में विख्यात है।