प्रवासियों की पहल पर स्थानीय ग्रामीणों ने बना दी 18 साल से लंबित सड़क

0
113
प्रवासियों
(कोटद्वार) लॉकडाउन के दौरान अपने घरों में खाली बैठे लोगों ने सकारात्मक पहल कर अपनी समस्याओं का समाधान कर सरकार का बरबश ध्यान आकर्षित किया है। एक ही एक मामला जयहरीखाल विकासखंड में नजर में आया। जहां ग्रामसभा-मठाली के प्रवासियों की पहल को रैवासी ग्रामीणों के सहयोग से परवान चढ़ाया।
दरअसल, वर्ष 2002 में 12 किलोमीटर स्वीकृत घान्घली-सन्दणा-मठाली मोटर मार्ग विभाग और शासन की लापरवाही के चलते 18 वर्षों से लम्बित पड़ा था। इस मोटर मार्ग का निर्माण कार्य 2002 में घान्घली गांव की तरफ से आरम्भ किया गया था और मठाली गांव से 01 किलोमीटर आगे राजकीय इण्टर कॉलेज मठाली (खैणी) तक होना है।18 वर्ष से सड़क निर्माण का कार्य न होने पर ग्रामीणों में आक्रोश था। इसी बीच कोरोना संकट को लेकर लॉकडाउन के प्रवासी लोग अपने गांव लौटे। इन प्रवासियों ने अपने खाली समय में स्थानीय लोगों की मदद से  खुद ही सड़क कटान का कार्य करना शुरू कर दिया। इसके लिये प्रवासियों और ग्रामीणों ने पैसे जमा किये और श्रमदान भी किया।
युवक मंगल दल के नेतृत्व में सभी ने श्रमदान करके खुदाई का कार्य किया। बीच में जेसीबी मशीन से भी कटान किया और कड़ी मेहनत से एक महीने में 01 किलामीटर सड़क खोदकर अपने गांव मठाली तक पहुंचा दी। कटान कार्य विभागीय सर्वे पर ही किया गया। बेरोजगार ग्रामीणों ने मेहनत करके सड़क बनाना सरकार और लोक निर्माण विभाग को आईना दिखाने का कार्य किया गया है।