तेज पानी के बहाव से कई भवन आए चपेट में

0
850

कोटद्वार। गढ़वाल का द्वार कहे जाने वाले कोटद्वार में एक बार फिर बारिश ने अपना कहर ढा रखा है।
पिछली रात से हो रही मूसलाधार बारिश ने कोटद्वार में एक बार फिर कहर ढा दिया है। भारी जल प्रलय ने एक महिला की जान ले ली जबकि मालन, खोह, सुखरौ सहित गिवई, पनियाली स्रोत गदेरे में कई मकानों को चपेट में ले लिया है और सैकड़ों बीघा भूमि को नुकसान पहुंचाया है। मेरठ-कोटद्वार-पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्ग सिद्धबली से आगे भारी मलबा आने के कारण छह घंटे तक बंद रहा। जबकि पहाड़ी से मलवा आने के कारण सिद्धबली के सामने स्थित कार्बेट टाइगर नेशनल पार्क के स्वागत भवन की दीवारों को तोड़कर राष्ट्रीय राजमार्ग पर आ गया।
आपदा प्रबन्धन केन्द्र कोटद्वार से मिली जानकारी के अनुसार पनियाली नाले में आये जल सैलाब से जमीदोज हुए। उपजिलाधिकारी कमलेश मेहता के अनुसार पनियाली गदेरे में आये जल सैलाब ने आमपड़ाव स्थित एक भवन को अपनी चपेट में ले लिया है। जिससे मकान में रह रहे बाकी सदस्यों को बचा लिया गया गया जबकि एक महिला का अभी तक कुछ पता नही चल सका है । मकान पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। श्री मेहता ने बताया कि पनियाली गदेरे में आये जल सैलाब के साथ जंगल से बहकर आये पेड़ देवी रोड स्थित पनियाली पुल पर अटक गये। जिससे पुल पर बंधा बन गया और पानी पुल के ऊपर बहने लगा। आपदा प्रबन्धन की टीम के साथ पुल पर अटके पेड़ों को जेसीबी की सहायता से हटाकर पानी का बहाव सुचारू किया गया।
क्षेत्र मूसलाधार बारिश से सबसे ज्यादा नुकसान पनियाली गदेरे ने पहुंचाया है। जबकि आमपड़ाव, रमेशनगर, जानकीनगर, प्रतापनगर, सूर्यनगर में पनियाली गदेरे में आये जल सैलाब से घरों में पानी घुस गया। जिससे भारी नुकसान होने की बात सामने आई है। वहीं खोह नदी में गिवई स्रोत में जल सैलाब आने से एक महान ढह गया। प्रशासन की टीम ने खतरे को देखते हुए घर को पहले ही खाली करा दिया था। जिस कारण एक बड़ा हादसा टल गया। उधर काशीरामपुर तल्ला में जल भराव होने से पानी लोगों के घरों व दुकानों में घुस गया। जिस कारण लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। वही दुकान में रखा सामान खराब होने की बात सामने आई है।कल रात से जारी मूसलाधार बारिश का असर इतना अधिक था कि डिग्री कॉलेज मवाकोट जाने वाली वन विभाग की सड़क पर हाथियों को रोकने के लिए बनाई गई सुरक्षा दीवार भी तीन जगह पर धराशायी हो गई है। इसके अलावा वन विभाग की कोल्हू नदी के पास स्थित चौकी में पानी घुस गया है।ग्रास्टनगंज में सनेह रोड से रतनपुर तक एक महिने पहले बनी सड़क पानी के तेज बहाव में तहस-नहस हो गई है। मानपुर में बीडीसी सदस्य मंजू जखमोला के घर के पीछे दीवार ढहने से पानी घुस जाने पर मकान को खतरा पैदा हो गया।मूसलाधार बारिश ने जानमाल के अलावा विद्युत विभाग की वितरण प्रणाली को भी ध्वस्त कर दिया है। बिजली घर से प्राप्त जानकारी के अनुसार मालन और सुखरौ में बिजली के खंभे क्षतिग्रस्त होने के कारण कोटद्वार की विद्युत आपूर्ति ठप हो गई है।