कोटद्वार-लैंसडाउन इको टूरिज्म सर्किट पर ली जानकारी

0
2113

(देहरादून) कोटद्वार-लैन्सडाउन इको पर्यटन सर्किट जहां कोटद्वार से कार्बेट पार्क के बीच की दूरी कम करेगा, वहीं इससे पर्यटन की नई संभावनाएं भी विकसित होंगी। वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने सर्किट की प्रगति को लेकर अधिकारियों से जानकारी ली।

मंगलवार को प्रदेश के वन एवं वन्य जीव, पर्यावरण एवं ठोस, अपशिष्ट निवारण, श्रम, सेवायोजन, प्रशिक्षण, आयुष एवं आयुष शिक्षा मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत की अध्यक्षता में विधानसभा सभागार में कोटद्वार-लैन्सडाउन इको टूरिज्म सर्किट विषय पर बैठक हुई। बैठक में उन्होंने कहा कि कोटद्वार से कार्बेट नेशनल पार्क का प्रवेश खुलने से वन्य जन्तु प्रेमी व पर्यटकों को जहां कम दूरी तय कर पर्यावरण व वन्य जन्तु का दर्शन का लाभ मिलेगा, वहीं स्थानीय युवाओं को रोजगार के अधिक से अधिक अवसर मिलने से पलायन रुकेगा। वनों के संरक्षण में अधिक से अधिक जन सहभागिता बढ़ाने बेरोजगार को रोजगार के अवसर सुलभ कराने को लेकर कोटद्वार से कार्बेट पार्क प्रवेश द्वार शुरू कराने की सरकार ने अच्छी पहल की है।
सरकार द्वारा रोजगार के अवसर बढ़ाने व पलायन रोकने को लेकर ऋषिकेश, रामनगर, चम्पावत व टौन्स ईको टूरिज्म सर्किट विकसित करने की योजना है, जिसमें सर्वप्रथम कोटद्वार ईको टूरिज्म सर्किट विकसित किया जा रहा है। बैठक में निर्णय लिया गया कि कोटद्वार ईको टूरिज्म सर्किट के अन्तर्गत आने वाले वन विश्राम गृह सनेह, लालढांग, गूलरझाला, चिडियापुर, रसियागढ़, कोल्हूचैड़, सेंधीखाल वन विश्राम गृहों में पुनर्निमाण कार्य ईको टूरिज्म कारर्पोरेशन करेगा। ईको टूरिज्म कारर्पोरेशन सात बंग्लों के प्रस्ताव वन विभाग को भेजेगा। वनमंत्री ने निर्देश दिए कि ईको टूरिज्म कारर्पोरेशन इन विश्राम गृहों को आधुनिक सुविधाओं से जोड़े। यदि कारर्पोरेशन इन विश्रामगृहों को आवास के अलावा अन्य व्यवसायिक उपयोग करना चाहें तो, इसके लिए वांछित प्रस्ताव पर केन्द्र से अनुमति की आवश्यकता होगी, जिसके लिए कारर्पोरेशन केन्द्र से अनुमति प्राप्त करेें।
चिल्लरखाल-लालढांग क्षतिग्रस्त 11 किलोमीटर मोटरमार्ग की मरम्मत का कार्य शीघ्र पूरा कराने के निर्देश वन मंत्री ने दिए। उन्होंने कहा कि यह मार्ग हरिद्वार-कोटद्वार मार्ग का ही अंश है, जो प्रयोग न होने के कारण यातायात के लिए सुचारू नहीं है। अतः इसकी मरम्मत करने पर वन विभाग को कोई आपत्ति नहीं होगी क्योंकि हरिद्वार-कोटद्वार मोटरमार्ग वन विभाग के अभिलेखों में सन 1977 में पक्के मार्ग के रूप में दर्ज है। उन्होंने कि पूर्व से निर्मित इस 11 किमी लालढांग-चिल्लरखाल अंश के ठीक कर देने से पर्यटकों एवं स्थानीय लोगों को कम लागत और कम समय में लोगों को आवागमन की बेहतर सुविधा उपलब्ध होगी। हरिद्वार-कोटद्वार मोटर मार्ग पर वन विभाग का स्वामित्व है। लोक निर्माण विभाग मार्ग अनुरक्षण में विशेषज्ञ संस्था होने के कारण इस अंश की रिपेयरिंग के लिए कार्यदायी संस्था के रूप में कार्य करेगी।
डॉ. रावत ने प्रबन्ध निदेशक को निर्देश दिए कि पर्यटकों को जानकारी देने हेके लिए राष्ट्रीय राज मार्गों हवाई अड़डों में साइनेज लगाए। उन्होंने ईको टूरिज्म कारपोरेशन के प्रबन्ध निदेशक को निर्देश दिए कि प्रदेश में पर्यावरणीय पर्यटन को मूर्तरूप देने को ईको टूरिज्म कारपोरेशन का ढांचा के प्रस्ताव शीघ्र कैबिनेट में लाया जाए। बैठक में अपर मुख्य सचिव डॉ. रणवीर सिंह, नोडल अधिकारी विनोद सिंघल, प्रबन्ध निदेशक ईको टूरिज्म कारपोरेशन अनूप मलिक, अपर सचिव वन विभाग सुभाष चन्द्र, मुख्य वन संरक्षक शिवालिक भुवन चन्द्र, वन संरक्षक शिवालिक मिनाक्षी जोशी आदि मौजूद रहे।