इरफान खान और उत्तराखंड: मुसलमान हूं तो क्या, मैं तो घर में आरती करता हूं

0
112
अपनी अदाकारी से लोगों के दिलों पर छा जाने वाले इरफान खान का उत्तराखंड से गहरा लगाव रहा। वह अपनी कई फिल्मों की शूटिंग के लिए देहरादून, ऋषिकेश और उत्तराखंड के अन्य दूसरे शहरों में आए। वह बार-बार उत्तराखंड आना चाहते थे। 2017 में ऋषिकेश के गंगा तट पर शूटिंग के दौरान उन्होंने पूजा-आरती का दृश्य किया तो उनसे पूछा गया कि मुसलमान होने के नाते वह असहज तो नहीं हुए। उनका जवाब था- मुसलमान हूं तो क्या, मैं तो घर में आरती करता हूं।
– ऋषिकेश में गंगा तट पर 2017 में इरफान ने खोला था राज
– मरहूम अदाकार इरफान खान को उत्तराखंड था बेहद पसंद
जिस पान सिंह तोमर फिल्म ने इरफान खान को राष्ट्रीय पुरस्कार दिलाया, उसकी ज्यादातर शूटिंग देहरादून में हुई। इरफान बार-बार उत्तराखंड आए तो इसकी दो वजह खास थीं। एक, उन्हें यहां के लोग और प्राकृतिक सौंदर्य बहुत पसंद आता था। दूसरा, मशहूर फिल्म निर्देशक तिग्मांशु धूलिया के साथ उनकी दोस्ती। तिग्मांशु धूलिया उत्तराखंड से ही हैं। इस वजह से भी उन्होंने उत्तराखंड को अच्छे से जाना-समझा। इरफान यूं तो कई फिल्मों की शूटिंग के लिए उत्तराखंड आए, लेकिन पान सिंह तोमर के अलावा, करीब करीब सिंगल फिल्म की शूटिंग के लिए उन्होंने उत्तराखंड में कई-कई दिन बिताए।
पान सिंह तोमर और करीब-करीब सिंगल फिल्म की यूनिट के सदस्य रहे अभिनव थापर इरफान की मौत से गमजदा हैं। थापर के अनुसार-इन दोनों फिल्मों की शूटिंग के दौरान इरफान को बहुत करीब से जाना समझा। करीब-करीब सिंगल फिल्म की शूटिंग के दौरान स्वर्गाश्रम, मुनिकीरेती, ऋषिकेश में उनके साथ काफी समय गुजरा। वह ऋषिकेश के आध्यात्मिक और धार्मिक माहौल में रमे हुए दिखते। गंगा तट पर शूटिंग के दौरान उन्होंने बताया कि उनकी पत्नी हिंदू है। इसलिए घर में होने वाली आरती में वह रोजाना शामिल होते हैं।
फिल्म इंडस्ट्री से जुडे़ सुमित अदलखा मानते हैं कि इरफान जितने शानदार अभिनेता थे, उससे कहीं ज्यादा अच्छे इंसान थे। बकौल, सुमित-करीब करीब सिंगल फिल्म की शूटिंग के दौरान वह अपने पूरे परिवार के साथ उत्तराखंड आए थे। वह बेहद हंसमुख इंसान थे और सभी से प्यार से मिलते जुलते थे। उन्होंने कहा था कि शूटिंग से फुर्सत पाकर वह पूरे परिवार के साथ फिर से उत्तराखंड आना चाहते हैं, लेकिन 2018 में कैंसर से पीड़ित होने के बाद उनका आना संभव नहीं हो पाया।