अब बड़कोट में होगी 25 जून को महापंचायत : हिन्दू जागृति मंच

0
211
महापंचायत

उत्तरकाशी के पुरोला में होने वाली महापंचायत को लेकर पुरोला जा रहे हिन्दू संगठनों के लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। हिन्दू जागृति मंच के अध्यक्ष का कहना है कि अब 25 जून को बड़कोट में महापंचायत की जायेगी।

जनपद के नौगांव में आज हिन्दू संगठन के लोग और व्यापारी बड़ी मात्रा में एकत्रित हुए। हिन्दू संगठनों के लोग और व्यापारी वीरवार को होने वाली महापंचायत को लेकर पुरोला कूच कर रहे थे। जिन्हें पुलिस ने नौगांव से दो किमी पूर्व मोंगरा पुल के पास रोक दिया। इस पर आक्रोश जताते हुए सभी लोगों ने सड़क पर ही जमकर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। पुलिस के समझाने पर भी जब हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ता और व्यापारी नहीं माने तो पुलिस ने बड़ी संख्या में हिन्दू संगठन के लोगों और व्यापारियों की गिरफ्तारी की।

हिन्दू जागृति मंच यमुना घाटी के अध्यक्ष केशव गिरी महाराज को पुलिस ने नौगांव से गिरफ्तार किया और बड़कोट थाने लेकर गई। पुलिस ने होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष सोहन सिंह राणा सहित बड़ी संख्या में लोगों को गिरफ्तार किया साथ ही रुद्रसेना के संस्थापक राकेश तोमर उत्तराखंडी और बजरंग दल के लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। हालांकि गिरफ्तारी के बाद केशव महाराज का कहना है हम नौगांव में महापंचायत करने के लिए करने की योजना बना रहे थे, लेकिन पुलिस ने हमें गिरफ्तार किया गया। केशव गिरी महाराज ने सभी हिन्दू संगठनों और व्यापारियों से 25 जून को बड़कोट में महापंचायत करने का आह्वान किया है। धरने की वजह से करीब ढाई घंटे तक पुरोला बफकोट मार्ग बंद रहा।

गुरुवार को पुरोला में महापंचायत होनी थी, लेकिन धारा 144 लगने से महापंचायत को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया था। इसके बाद व्यापारिक संगठनों के लोगों ने पूरी यमुना घाटी जिसमे बड़कोट, नौगांव डामटा, पुरोला मोरी के बाजारों को बंद रखने का निर्णय गया और जिसका असर दिखाई भी दिया है। यमुना घाटी के संपूर्ण बाजारों के व्यापारिक प्रतिष्ठान पूरी तरीके से बंद है। बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा वही पुरोला तहसील क्षेत्र के अंतर्गत धारा 144 लगाई गई है और चप्पे-चप्पे पर पुलिस और प्रशासन की पैनी नजर है।

गौरतलब है कि पुरोला में बीते 26 मई को मुस्लिम समुदाय के युवक ने नाबालिग लड़की को भगाने का प्रयास किया गया था। इस घटना के बाद लोगों ने सड़कों पर उतर कर जुलूस प्रदर्शन निकाले और बाजार बंद रखे। मामले में दो आरोपितों को जेल भेजा गया। इस बीच कुछ दिन पहले पुरोला में मुस्लिम समुदाय के लोगों की दुकानों के आगे महापंचायत संबंधी धमकी भरे पोस्टर चस्पा कर दिए गए थे। इसके चलते कई लोग पुरोला छोड़ चुके हैं।