तेलगांना हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस राघवेंद्र चौहान होंगे हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश

0
204

तेलगांना हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस राघवेंद्र सिंह चौहान उत्तराखंड हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में जल्द शपथ ग्रहण करेंगे। सुप्रीम कोर्ट की कॉलेजियम ने इसकी सिफारिश की है। 15 जुलाई को हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रमेश रंगनाथन के सेवानिवृत्त होने के बाद से ही हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति रवि मलिमठ कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्यरत है। हाईकोर्ट में मुख्य न्यायाधीश सहित दो पद रिक्त है।

तेलगांना हाईकोर्ट के चीफ ज‌स्टिस ने अपने डेढ़ वर्ष के कार्यकाल में न्याय प्रणाली में बहुत सुधार किए थे। उन्होंने कोविड -19 प्रबंधन और सार्वजनिक स्वास्थ्य मामलों और झीलों के प्रबंधन जैसे प्रमुख मुद्दों को व्यवस्थित करने के प्रयास किए। लॉकडाउन के दौरान बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों के लिए एक सुरक्षित मार्ग सुनिश्चित करने पर उनके प्रयास की सराहना की गई।

चीफ जस्टिस राघवेंद्र सिंह चौहान ने राजस्थान हाईकोर्ट से जून 2005 में एक न्यायाधीश के रूप में शपथ ग्रहण की। उन्हें मार्च 2015 में कर्नाटक हाईकोर्ट में स्थानांतरित कर दिया गया  था। वह एक वरिष्ठ न्यायाधीश के रूप में तेलंगाना हाईकोर्ट में पहुंचे। अप्रैल 2019 में चीफ जस्टिस बन गए। सुप्रीम कोर्ट की सिफारिश के बाद विधि एवं न्‍याय मंत्रालय की ओर से नियुक्ति की अधिसूचना जारी की जाएगी।

न्यायमूर्ति राघवेंद्र सिंह की शिक्षा और कार्यकाल
24 दिसम्बर 1959 को जन्मे जस्टिस राघवेंद्र सिंह चौहान ने 1980 में अमेरिका के आर्काडिया यूनिवर्सिटी से स्नातक की पढ़ाई पूरी की है। वर्ष 1983 में दिल्ली यूनिवर्सिटी से विधि की डिग्री हासिल करने के बाद वे 2005 में राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधीश नियुक्त हुए और 2015 में कर्नाटक उच्च न्यायालय के न्यायाधीश बनाए गए। वर्ष 2018 में आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के संयुक्त उच्च न्यायालय में उनकी नियुक्ति हुई थी और हाईकोर्ट के विभाजन के बाद से उन्हें पहले तेलंगाना उच्च न्यायालय का कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश और 22 जून 2019 को मुख्य न्यायाधीश बनाया गया था।