हरीश रावत के ट्विट से कांग्रेस में मची हलचल

0
110

हरिद्वार। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने ट्विटर के माध्यम से इस बात का खुलासा कर दिया है कि कुख्यात बदमाश संजीव जीवा और सुशील मूंछ के नाम से प्रदेश में मांडवाली होती है। कांग्रेस पार्टी के भीतर ही कोई व्यक्ति ऐसा है जो भाइयों और पड़ोसियों में मुकदमा कराने के बाद मध्यस्थता करता है। वह गाली देकर बात करता है और पार्टी के उम्मीदवार को हराने के लिए किसी से भी मोलभाव करने का गुण रखता है। हरीश रावत की इस पोस्ट ने कांग्रेस के भीतर होने वाली गुटबाजी को सार्वजनिक कर दिया है। ऐसे में सवाल उठता है कि जब हरीश रावत खुद मुख्यमंत्री की कुर्सी पर काबिज थे तब कुख्यात बदमाशों से संबंध रखने वालों की जानकारी पुलिस को क्यों नहीं दी गई। ऐसे लोगों पर कार्रवाई क्यों नहीं की गई।

बुधवार 6 फरवरी को पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने ट्विट कर सनसनी मचा दी। हरीश रावत ने बिना किसी का नाम लिए एक नेता पर कटाक्ष करते हुए बाहरी और भीतरी होने को परिभाषित किया। हरीश रावत ने ट्विट में लिखा कि एक दिलचस्प बहस चल रही है, बाहरी कौन, भीतरी कौन। हरीश रावत ने अपने को बाहरी बताते हुए लिखा है कि बाहरी वह है जो आपकी बकरी, भैंस, बैल का इलाज करवाए। आपका और आपके परिवार का इलाज करवाए। बीज व पौधे बांटे और गन्ने का भुगतान करे। तीन साल में 16 पुल बनवाए और चमाचम सड़कें बनवाए। नदियों के बंधे बनवाए। अर्द्ध कुंभ में कुंभ से ज्यादा काम करवाए। डिग्री कॉलेज, पॉलिटेक्निक मेडिकल कॉलेज आदि स्वीकृत कराए। उन्होंने भीतरी व्यक्ति पर निशाना साधते हुए लिखा कि जो सुशील मूंछ और राठी को जानता हो। भाइयों और पड़ोसियों में मुकदमेबाजी करवाए, फिर मध्यस्थ बने। जो गाली देकर बात करे, पार्टी के उम्मीदवार को हराने के लिए किसी से भी मोलभाव करने का गुण रखता हो। यह सब कुछ लिखने के बाद उन्होंने लिखा कि परिभाषा ठीक है न बाहरी और भीतरी की। इस ट्विट ने एक बात तो उजागर कर दी कि नेताओं के कुख्यात बदमाशों से संबंध होते हैं। नेता विवादों का समझौता कराने के लिए कुख्यात बदमाशों के नाम का सहारा लेते हैं। लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की ट्विट ने ये बात भी जाहिर कर दी कि उनको मालूम है कि किस नेता के कुख्यात बदमाशों से संबंध है।
पूर्व सीएम के इस ट्विट के बाद से चर्चाओं में कनखल के एक कांग्रेसी नेता हैं। जिन पर सुनील राठी से आशीष ऊर्फ टुल्ली की दोस्ती का खुलासा होने के बाद ऊंगली उठ चुकी है। पूर्व सीएम के इस बयान से कांग्रेसियों में खलबली मची हुई है।