बद्री विशाल के द्वार पर गुजरात का शुभारंभ

0
2043

ऋषिकेश, देश विदेश के लाखों श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र बद्री-विशाल श्री बद्रीनाथ धाम की यात्रा जल्द ही शुरू होने वाली है, जिसको देखते हुए प्रशासन ने अपनी तैयारियों को अंजाम देना शुरू कर दिया है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह क्षेत्र गुजरात को इस बार बद्रीनाथ धाम में विशेष महत्व मिलने जा रहा है, जिसके लिए उत्तराखंड सरकार और बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं।

इस बार तीर्थ यात्रियों को बद्रीनाथ धाम के कपाट पर गुजरात के शुभंकर का प्रतीक चिन्ह देखने को मिलेगा सिंह के मुंह की आकृति वाला यह प्रतीक चिन्ह बद्री विशाल के द्वार पर शोभा बढ़ाएगा।जी हां, इस बार गुजरात राज्य के पर्यटन विभाग का शुभंकर बदरीनाथ धाम के सिंह द्वार की शोभा बढ़ाएगा। बीते वर्ष महाराष्ट्र राज्य का शुभंकर ‘ॐ’ सिंहद्वार पर अंकित किया गया था। बीकेटीसी के सीईओ बीडी सिंह ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि, “अनेकता में एकता का संदेश देने के लिए बदरीनाथ धाम में सिंहद्वार के दोनों ओर प्रत्येक वर्ष भारत के अलग-अलग राज्यों के पर्यटन विभाग के शुभंकर अंकित किए जाते हैं। इस समय यह माैका गुजरात पर्यटन विभाग के शुभंकर को मिला है।”

कपाट खुलने से पूर्व यह मन्दिर परिसर की साजसज्जा और रंग राेजन के बाद शुभंकर सिंहद्वार पर अंकित कर दिया जाएगा। वही ऋषिकेश स्थित बीकेटीसी के जनसम्पर्क विभाग एंव प्रचार प्रसार अधिकारी डा. हरीश गाैड नें बताया कि, “हर वर्ष अलग- अलग प्रदेशों के शुभंकर श्री बदरीनाथ मंदिर के द्वार पर बनाये जाते हैं,यह श्री बदरीनाथ धाम के अखिल भारतीय स्वरूप को भी दर्शाता है,इसके लिए श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति द्वारा संबधित राज्य से स्वीकृति ली जाती है। इसबार गुजरात प्रदेश के पर्यटन विभाग का शुभंकर बदरीनाथ धाम के मुख्यद्वार “सिंहद्वार “की शाेभा बढ़ायेगा और देश विदेश से आने वाले तीर्थ यात्रियों को एक संदेश देगा।”

हालांकि इसे नरेंद्र मोदी के उत्तराखंड प्रेम के चलते भी देखा जा रहा है और हर साल बड़ी संख्या में गुजराती समाज के लोग उत्तराखंड की चारधाम यात्रा पर आते हैं और चारों धाम में अपनी श्रद्धा को प्रकट भी करते हैं। इस बार गुजरात स्टेट को श्री बद्री विशाल धाम में अपने प्रतीक चिन्ह को स्थापित करने का मौका मिला है