जरूरत पड़ने पर सरकार और बैंकों का करेगी विलय : अनुराग ठाकुर 

0
43

नई दिल्‍ली,  सरकार जरूरत के हिसाब से और बैंकों के एकीकरण यानी विलय को भी तैयार है। केंद्रीय वित राज्‍यमंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने बात कही। बता दें कि पिछले साल सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के दस बैंकों का विलय करके कुल 4 बड़े बैंक बनाने की घोषणा की थी।

गौरतलब है कि इस प्रक्रिया के अमल में आने के बाद अप्रैल, 2020 से 6 वैश्वि आकार के बैंक अस्तित्व में आ जाएंगे। इसके साथ ही सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की संख्या अब घटकर मात्र 12 रह जाएगी, जो कि साल 2017 में 27 थी।

ठाकुर ने कहा कि हमने सफलतापूर्वक बैंकों का विलय और पुन:पूंजीकरण किया है। वहीं, दिवाला एवं ऋणशोधन अक्षमता संहिता (आईबीसी) सफल रही है। इसके जरिए बैंकों को चार लाख करोड़ रुपये वापस मिले हैं। उनहोंने कहा कि जरूरत के मुताबिक आगे और एकीकरण या विलय किया जाएगा।

वित राज्‍यमंत्री ने कहा कि बैंकों के विलय के जरिए वैश्विक आकार के बैंक अस्तित्व में आने से सरकार के वित्‍त वर्ष 2024-25 तक 5 हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य को हासिल करने में मदद मिलेगी। ठाकुर ने कहा कि बड़े बैंकों की पहुंच और अधिक व्यापक होगी, जिससे  उनकी लोन देने की क्षमता बेहतर होगी और बढ़िया उत्पादों और प्रौद्योगिकी के जरिए वे ग्राहकों को सेवाएं दे सकेंगे।