जेल से छूटे अपराधियों पर पुलिस की पैनी नजर

0
737

देहरादून। पुलिस लाइन देहरादून में रविवार को मासिक अपराध गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) निवेदिता कुकरेती कुमार ने सभी थाना प्रभारियों को बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं के दृष्टिगत अपने-अपने थाना क्षेत्रों में सुप्रीम कोर्ट द्वारा सड़क सुरक्षा के सम्बन्ध में दिए गए निर्देशों का शत-प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित करते हुए कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

उन्होंने ओवर लोडिंग, रेडलाइट जम्प , वाहन चलाने के दौरान मोबाइल का प्रयोग करने, रेश ड्राइविंग, शराब पीकर वाहन चलाने, प्राइवेट वाहनों का कमर्शियल में इस्तेमाल करने वाले वाहन चालकों के ड्राइविंग लाइसेंस निरस्तीकरण की कार्यवाही अनिवार्य रूप से करने को कहा। साथ ही प्रत्येक थाना क्षेत्र में दुर्घटना सम्भावित स्थलों को चिन्हित कर उक्त स्थानों पर साइन बोर्ड लगवाने के लिए निर्देशित किया।

dehradun policeगृह भेदन, वाहन चोरी आदि घटनाओं में विगत पांच वर्षों में नजर में आये अपराधियों तथा जेल से छूटे अपराधियों की सूची तैयार कर उनकी नियमित निगरनी के लिए थाना स्तर पर उनि तथा बीट कास्टेबल को नामित करते हुए उनकी निगरानी कार्य वितरित करने को कहा। थाना क्षेत्र में किसी घटना के घटित होने पर तत्काल सम्बन्धित सक्षम अधिकारीगण द्वारा स्वयं घटना स्थल पर जाकर मौका मुआयना करने, पुराने नकबजनों के सत्यापन, वांछितों की गिरफ्तारी, सम्मन/वारंट की तामीली करने व उनका नियमित रिकॉर्ड मेंटेन रखने, लंबित मालों के जल्द निस्तारण करने को कहा।

इसके अतिरिक्त थानों में पडे लावारिस व सीज वाहनों का विवरण, गुमशुदा बच्चों,अज्ञात शवों, जेल भेजे गए, सजायफ्ता अपराधियों का नियमित विवरण डीसीआरबी को नियमित रूप से उपलब्ध कराने के निर्देश दिया। विगत एक माह से अधिक के लम्बित शिकायती प्रार्थना पत्रों के जल्द निस्तारण तथा लम्बित विवेचनाओं के त्वरित निस्तारण के लिए सभी थाना प्रभारीयों को निर्देशित किया गया। साथ ही आदतन अपराधियों के विरूध गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्यवाही करने तथा जमानत पर रिहा हुए अपराधियो, जो पुनः अपराध कारित करते है, उनकी जमानत रद्द करने तथा गुंडा एक्ट व जुआ एक्ट के अंतर्गत अधिक से अधिक निरोधात्मक कार्यवाही करने हेतु सभी थाना प्रभारियों को निर्देशित किया।

जनपद के नगर व देहात क्षेत्र में नशे का कारोबार करने वाले अभियुक्तों के विरूध प्रभावी कार्यवाही करने के लिए सभी थाना प्रभारियों को पकडे गये अभियुक्तों से पूछताछ के आधार पर व्यापक पैमाने पर नशे का कारोबार करने वाले बाहरी व्यक्तियों व उक्त स्थानों के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त कर आवश्यक कार्यवाही करने के दिशा-निर्देश दिए गए।