नशीले पदार्थ के साथ पकड़े गये लाल बहादुर शास्त्री अकादमी के कर्मचारी

0
867

अपनी तरह की पहली घटना में पुलिस ने मसूरी के प्रसिद्ध लाल बहादुर शास्त्री अकादमी के दो कर्मचारियों को प्रतिबंधित नशीले पदार्थों के साथ पकड़ा है। ये दोनों ही अकादमी जूनियर लेवल पर अस्थाई कर्मचारी हैं। इन दोनों के पास से पुलिस को करीब 166 ग्राम चरस बरामद हुई।

पकड़े गये दोनों में से विनय अकादमी की मेस में वेटर का काम करता है वहीं दूसरा शख्स देव सिंह सिक्योरिटी गार्ड का काम करता है। गौरतलब है कि ये वही देव सिंह है जिसे एकादमी के ही चर्चित रूबी चौधरी कांड में एक आरोपी बनाया गया था। इस कांड में रूबी चौधरी नाम कि महिला को अकादमी गैर कानूनी तरह से कई महीनों तक रहते हुए पकड़ा गया था।

मसूरी पुलिस ने एक सूचना के आधार पर इन दोनो को मसूरी कैंप्टी रोड पर जीरो प्वाइंट से पकड़ा। चरस के साथ साथ पुलिस ने इन दोनों द्वारा इस्तेमाल की जा रही मोटर साइकिल को भी जब्त कर लिया है। इन दोनों से ही पुलिस की पूछताछ जारी है और पुलिस ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि इनके साथ इस धंधे में और कौन कौन शामिल है।

एसएचओ मसूरी भावना कैंथोला ने बताया कि “मसूरी को नशा मुक्त बनाने के लिये पुलिस ने अभियान चला रखा है। इस अभियान की यो तो केवल शुरुआत है।आने वाले दिनों में शहर में सक्रिय नशे के कारोबारियों पर पुलिस अपना शिकंजा और कसेगी।”

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार देव सिंह ये नशीले पदार्थ लाखामंडल से अपने खुद के इस्तेमाल के लिये लाया था। वहीं विनय के मुताबिक वो देव सिंह के साथ सैर सपाटे के मकसद से गया था और उसे इस बात की जानकारी नहीं थी कि देव सिंह के पास इस तरह के पदार्थ हैं।

पुलिस को हांलाकि उम्मीद है कि दोने से और पूछताछ करने पर नसे के कारोबार से जुड़ी और जानकारियां मिल सकेंगी।