महिलाओं को ट्रांसपोर्ट न मिलने पर दून पुलिस पहुँचाएगी घर

0
214
ठगी
FILE

देश मे बढ़ रहे महिला अपराधों से आजकल देश की महिलाएं खुद को असुरक्षित महसूस कर रही है, तो वही पूरे देश मे महिला सुरक्षा पर बहस छिड़ी हुई है और सरकार पर कई तरह के सवाल भी खड़े हो रहे हैं। ऐसे में यूपी सरकार की तरह उत्तराखंड पुलिस ने भी महिलाओं की सुरक्षा के मद्देनजर एक नई सेवा का शुभारंभ किया है, जिससे अब अगर कोई भी महिला अकेले होने या वाहन न मिलने पर नजदीक की पुलिस चौकी में फोन कर सकती है, जिससे पुलिस अपने पीसीआर वाहन से उक्त महिला को उसके घर तक पहुँचाएगी।

महिलाओं की सुरक्षा के लिए देहरादून पुलिस ने 112 के माध्यम से की एक नई पहल शुरू की गई है। हैदराबाद और उन्नाव में हुई घटनाओं के बाद पूरे देश मे महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं जिसने सभी लोगों को सोचने पर मजबूर कर दिया है। इस देश मे महिलाओं की सुरक्षा पर आजकल खूब चर्चाए हो रही है।

विगत कुछ समय से विभिन्न स्थानों पर महिलाओं के साथ घटित हुए जघन्य अपराधों के दृष्टिगत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा महिलाओं की सुरक्षा के लिये जनपद देहरादून में नई पहल की शुरूआत की गयी है। जिसके तहत पुलिस सहायता नम्बर 112 पर प्राप्त होने वाली शिकायतों पर कार्यवाही के अतिरिक्त 112 द्वारा रात्रि के समय किसी भी महिला के द्वारा ट्रांसपोर्ट की सुविधा न मिलने सम्बन्धित सूचना पर तत्काल् सम्बन्धित थाने को अवगत कराते हुए नजदीकी पीसीआर वैन के माध्यम से उक्त महिला को उसके गन्तव्य तक पहुंचाना सुनिश्चित करेंगे। साथ ही दिन के समय प्राप्त होने वाली सूचनाओं पर सम्बन्धित थाना पुलिस द्वारा सूचना देने वाली महिलाओं के लिये पब्लिक ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जायेगी।

इसके अतिरिक्त प्रभारी कन्ट्रोल रूम को निर्देशित किया गया कि इस सम्बन्ध में प्राप्त हाने वाली फोन काॅलों,सूचनाओं सेे सम्बन्धित क्षेत्राधिकारी,थाना प्रभारी को तत्काल् सूचित करते हुए उनका निस्तारण कर सम्बन्धित कालर से पुलिस द्वारा उपलब्ध करायी गयी सहायता के सम्बन्ध में उनकी प्रतिक्रिया लेना भी सुनिश्चित करेंगे।