डॉ.मीनू गुप्ता ने दी बच्चों को पौष्टिक आहार की जानकारी

0
66

डोईवाला- नि:शुल्क शिक्षण संस्थान पेन-इंडिया स्कूल भानियावाला में बच्चो को जागरूक करने के लिए कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें स्वामी राम हिमालयन विश्वविद्यालय के अधीन कैंसर रिसर्च इंस्टिट्यूट की डॉ.मीनू गुप्ता ने बच्चों को पौष्टिक आहार की जानकारी दी।

विश्व कैंसर दिवस के उपलक्ष्य में बच्चों को जागरूक करने के उद्देश्य से निशुल्क शिक्षण संस्थान पेन-इंडिया स्कूल में कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें कैंसर चिकित्सक डॉ.मीनू गुप्ता ने बताया कि साल 1933 में अंतर्राष्ट्रीय कैंसर नियंत्रण संघ ने स्विटजरलैंड के जिनेवा में पहली बार विश्व कैंसर दिवस मनाया। डॉ.मीनू गुप्ता ने बच्चों को पौष्टिक आहार के साथ, योग व फिजिकल एक्सरसाइज की सलाह दी। इस दौरान वॉलंटियर शिक्षिका ऋतु शर्मा व दीपालिका नेगी मौजूद रहे।

तकरीबन तीन लाख बच्चे प्रति वर्ष कैंसर पीड़ित

बचपन में कैंसर होना चाइल्डहुड कैंसर कहलाता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक हर वर्ष तकरीबन तीन लाख बच्चे इस जानलेवा बीमारी की चपेट में आते हैं, जिनमें से 78 हजार से ज्यादा अकेले भारत में होते हैं। इससे भी ज्यादा दुखदायी तथ्य यह है कि विकसित देशों में जहां लगभग 80 प्रतिशत बच्चे ठीक हो जाते हैं वहीं भारत में डॉक्टर कैंसर पीड़ित केवल 30 प्रतिशत बच्चों को ही बचा पाते हैं।

बच्चों में होने वाले कैंसर
एक्यूट लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया, ब्रेन ट्यूमर, होज्किन्ज़ लिम्फोमा, साकोर्मा और एंब्रायोनल ट्यूमर

लक्षणों को नजर अंदाज न करें
नाक से खून आना, घाव का जल्दी ठीक न होना, बड़े आकार के लिम्फ नॉड्स, सांस मे कमी, व्यवहार में बदलाव, सिर में लगातार दर्द रहना, कुछ भी खाने के बाद उल्टी होना, हड्डियों में दर्द रहना, बार-बार बुखार आना, मूत्र में रक्तस्त्राव होना