होम स्टे योजना से भी जुड़ सकते है पूर्व सैनिकः डीएम

0
98

गोपेश्वर। शुक्रवार को जिला सभागार गोपेश्वर में जिला सैनिक परिषद की वार्षिक बैठक संपन्न हुई जिसमें जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने कहा कि स्वरोजगार की दिशा में पूर्व सैनिक होमस्टे योजनाके साथ ही सूक्ष्म, लघु उद्योग से जुड सकते है। इसके लिए प्रशासन हर संभव मदद करेगा।
डीएम ने भूतपूर्व सैनिक एवं उनके आश्रितों की समस्याओं पर विचार विमर्श करते हुए पूर्व सैनिकों की समस्याऐं के निराकरण हेतु हर सम्भव प्रयास करने की बात कही गई। बैठक में जिलाधिकारी ने जिला सैनिक कल्याण एवं पुर्नवास चमोली द्वारा प्रकाशित ‘‘प्रतिष्ठा और सम्मान’’ पुस्तिका का विमोचन भी किया।
डीएम ने कहा कि चमोली जनपद सीमांत जनपद है, जहां पर पूर्व सैनिकों की उपस्थिति समाज में सुरक्षा तथा सामाजिक दृष्टि से और भी महत्वपूर्ण है। उन्होंने पूर्व सैनिकों को अपने सैन्य अनुभव से जिले की प्रगति में अपना हर संभव सहयोग देने की बात कही। स्वरोजगार के लिए पूर्व सैनिकों को प्रोत्साहित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि जिले में पर्यटन की आपार संभावनाएं है तथा पूर्व सैनिक जिले में स्वरोजगार के लिए होमस्टे योजना से जुड़ सकते है। इसके अलावा सूक्ष्म एवं लघु उद्योगों के क्षेत्र में भी कार्य कर सकते है।
जिला सैनिक कल्याण अधिकारी को सूक्ष्म, लघु उद्योग व होमस्टे संचालित करने के इच्छुक पूर्व सैनिकों की सूची उपलब्ध कराने को कहा, ताकि विभागों के माध्यम से कैम्प लागाकर इच्छुक पूर्व सैनिकों को योजनाओं के बारे में पूरी जानकारी दी जा सके तथा पूर्व सैनिक सरकार की संचालित विभिन्न योजनाओं का लाभ उठा सके।
जिला सैनिक परिषद की बैठक में पूर्व सैनिक लीग ने कालेश्वर में अंशदायी स्वास्थ्य योजना पालीक्लीनिक (ईसीएचएस) के लिए अभी तक भूमि आवंटन न होने की समस्या रखी। जिस पर जिलाधिकारी ने कहा इस मामले में एसडीएम कर्णप्रयाग के माध्यम से कार्यवाही की जा रही है। इस अवसर पर जिला सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास अधिकारी ले. कर्नल बीएस रावत (अप्रा), सामाजिक कार्यकर्ता सुरेन्द्र सिंह लिंगवाल आदि मौजूद थे।