रेशम एवं मधुमक्खी पालन पर डीएम ने दिया बल

0
615

पौड़ी। पौड़ी गढ़वाल में भारत सरकार के संकल्प से सिद्धि कार्यक्रम के तहत कृषकों की आय को दो गुनी करने को लेकर आयोजित बैठक में डीएम ने सभी रेखीय विभागों को अभी से तैयारियों में जुटने के निर्देश दिए। उन्होंने कृषि, उद्यान, पशुपालन, डेयरी, ग्राम्य विकास, आईएलएसपी समेत विभिन्न विभागों को पांच वर्षों के लिए कार्ययोजना तैयार करने के भी निर्देश दिए।
विकास भवन सभागार में जिलाधिकारी सुशील कुमार की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में उन्होंने सरकार के संकल्प से सिद्धि कार्यक्रम को बेहद गंभीरता से लेने को कहा। उन्होंने सभी विभागों से किसानों को आय में समेकित वृद्धि करने को लेकर पांच सालों के लिए प्रगति कार्य योजना तैयार करने को कहा। उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र से प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से संबंध रखने वाले विभाग कृषकों की आय में वृद्धि करने के लिए ठोस रणनीतियां बनायें। इस मौके पर डीएम ने प्रोसेसिंग प्लांट लगाने के साथ ही मार्केटिंग तथा वैल्यू एडिशन बढ़ाने के लिए कार्य करने को कहा। विभागों को आगामी पांच वर्षों तक के कलस्टर का क्षेत्र बढ़ाने तथा चिन्हीकरण करने पर जोर दिया। सकल घरेलू उत्पाद के लिए झंगोरा, रामदाना, गेहूं, मंडवा, दलहन, तिलहन, अखरोट, सेब, बेमौसमी सब्जी, मसालों की खेती आदि को बढ़ाकर कृषकों की आय बढ़ाने को कहा। उन्होंने पशुपालन, मत्स्य आदि के साथ ही डेयरी विभाग के अधिकारियों के निर्देशित किया कि जनपद के जिन क्षेत्रों में कलस्टर बेस खेती की जा रही है ऐसे क्षेत्रों पर ज्यादा ध्यान दिये जाने को कहा। उन्होंने कहा कि ग्राम्या के माध्यम से पैकिंग एवं ब्रीडिंग के प्रोसेसिंग प्लांट लगाकर काश्तकारों को जानकारी उपलब्ध करायें।
डीएम ने रेशम समेत मधुमक्खी पालन से भी काश्तकारो की आय बढ़ाने पर जोर दिया। उन्होंने रेखीय विभागों से कहा कि वे बंजर जमीन को टेकअप करते हुए पांच सालों का लक्ष्य तय करें। इस मौके पर सीडीओ रवनीत चीमा, डीएफओ लक्ष्मण सिंह, डीडीओ वेद प्रकाश, एपीडी सुनील कुमार, सीएओ डॉ. डीएस राणा, सीएचओ डॉ. नरेंद्र कुमार समेत रेखीय विभागों के अधिकारी के साथ ही कृषक बंधु स्वयं सहायता समूह, गैर-सरकारी संगठनों के पदाधिकारी उपस्थित रहे।