अब बाबा केदार के भक्तों को होंगे गर्भगृह के दर्शन

    0
    43
    गर्भगृह
    Kedarnath

    केदारनाथ धाम आने वाले यात्रियों के लिए अच्छी खबर है। कोरोना काल के दो सालों बाद अब भक्तों को केदारनाथ भगवान के गर्भगृह के दर्शन कराया जाना शुरू हो गया है। हालांकि अभी भक्त केदारनाथ भगवान के स्वयंभू लिंग को छू नहीं पाएंगे।

    इसके अलावा स्वयंभू लिंग का घी आदि पूजार्थ सामग्री से लेपन नहीं कर पाएंगे। फिलहाल स्वयंभू लिंग के दर्शन और परिक्रमा करने की अनुमति भक्तों को दी गई है। केदारनाथ में बढ़ती संख्या को देखते हुए जिला प्रशासन की ओर से व्यवस्थाएं बढ़ा दी गई हैं। लिनचौली से केदारनाथ के बीच सौ के करीब टेंट लगाए गए हैं, जबकि धाम में भी रहने के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। प्रशासन की मानें तो आठ से दस हजार के करीब तीर्थयात्री धाम में रह सकते हैं।

    जब से कोरोना महामारी शुरू हुई थी, तब से लेकर भगवान केदारनाथ के गर्भगृह के दर्शन पर रोक लगी लगाई थी। ऐसे में भगवान केदारनाथ के दर्शन भक्तों को सभा मंडप से ही कराए जा रहे थे। पिछले दो सालों से मंदिर के गर्भ गृह में जाने की अनुमति भक्तों को नहीं दी जा रही थी। मंदिर के गर्भ गृह में मंदिर के पुजारी, वेदपाठी और तीर्थ पुरोहित ही जा सकते थे। भक्त नजदीक से बाबा केदार के दर्शन नहीं कर पा रहे थे, जिसके बाद भक्तों में निराशा छाई हुई थी। केदारनाथ धाम के लिए ई-पास की बाध्यता भी समाप्त हो गई है। इसके अलावा अब भक्त गर्भगृह में जाकर बाबा केदार के स्वयंभू लिंग के दर्शन कर पाएंगे।

    केदारनाथ के वरिष्ठ तीर्थ पुरोहित आचार्य संतोष त्रिवेदी ने बताया कि भक्तों के लिए अब बाबा केदार के दर्शन भी पूर्ण रूप से खोल दिये गये हैं। अब भक्त मंदिर के गर्भ गृह में प्रवेश कर सकते हैं।

    उन्होंने बताया कि मंदिर में कोरोना गाइड-लाइन का भी पूर्ण पालन किया जा रहा है। केदारनाथ धाम में तीर्थयात्रियों की संख्या में वृद्धि होने लगी है। ई-पास की अनिवार्यता समाप्त होने के बाद भारी तादाद में तीर्थयात्री धाम पहुंच रहे हैं। हेलीकॉप्टर सेवाओं से भी हर दिन पांच से छह सौ के करीब तीर्थयात्री केदारनाथ पहुंच रहे हैं, जबकि पैदल पड़ाव से डेढ़ से दो हजार के बीच यात्री धाम पहुंच रहे हैं।

    जिलाधिकारी मनुज गोयल ने बताया कि कोविड नियमों का पालन करते हुए तीर्थयात्री धाम पहुंच सकते हैं। जिले में अनेक सेंटर कोविड टेस्ट के लगाए गए हैं। यात्री आसानी से टेस्ट करवाकर धाम को निकल सकते हैं। कोविड जांच के लिए अंतिम सेंटर सोनप्रयाग है, जहां पर यात्री अपनी जांच करा सकते हैं।

    उन्होंने कहा कि केदारनाथ धाम से लेकर यात्रा पड़ावों में रहने और खाने की उचित व्यवस्था की गई है। धाम सहित यात्रा पड़ावों में आठ से दस हजार तीर्थयात्रियों के रहने की व्यवस्था है। डीएम मनुज गोयल ने बताया कि केदारनाथ में गर्भगृह दर्शन को लेकर देवस्थानम् बोर्ड की ओर से एसओपी जारी की गई है। यह देवस्थानम् बोर्ड का फैसला है, जिससे तीर्थ यात्रियों में भी काफी खुशी है।