जोशीमठ, औली और बदरीनाथ के लिए वैकल्पिक मार्ग खोजे जाने की आवश्यकता’

0
159
चारधाम
file

जोशीमठ बचाओ संघर्ष समिति ने शनिवार को उपजिलाधिकारी जोशीमठ के माध्यम से एक ज्ञापन सड़क परिवहन एवं राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्री केंद्र सरकार को भेजकर मांग की है कि तीर्थाटन और पर्यटन को बढ़ावा दिये जाने के लिए जोशीमठ, औली और बदरीनाथ के लिए वैकल्पिक सड़क मार्ग खोजे जाने की आवश्यकता है। ताकि एक ही सड़क और स्थान पर दबाव और जाम की स्थिति से निपटा जा सके।

संघर्ष समिति के संयोजक अतुल सती, प्रवक्ता कमल रतूड़ी और नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष शैलेंद्र पंवार का कहना है कि फूलों की घाटी, औली और बदरीनाथ धाम के लिए हर वर्ष हजारों की संख्या में तीर्थ यात्री और पर्यटक आते हैं। ऐसे में एक ही मार्ग होने के चलते काफी दबाव रहता है और यात्रियों और पर्यटकों को जाम से भी जूझना पड़ता है। ऐसे में इन स्थानों तक पहुंचने के लिए वैकल्पिक सड़क मार्ग खोजे जाते हैं तो इन मार्गों से जुड़ने वाले लोगों को भी लाभ मिलेगा और अधिक संख्या में पर्यटक और तीर्थ यात्री यहां पहुंच सकते हैं।

उन्होंने कहा कि इन वैकल्पिक मार्गों में ग्वालदम से औली, जोशीमठ भूधंसाव की समस्या को देखते हुए गोपेश्वर-घिघंराण-मारवाडी मोटर मार्ग, नंदप्रयाग-क्वारी पास-औली होते हुए जोशीमठ का मार्ग भी इस दिशा में विकल्प हो सकता है। यदि इन मार्गों का निर्माण होता है तो पर्यटक, तीर्थ यात्रियों के बढ़ने के साथ ही स्थानीय बेरोजगार युवाओं को रोजगार भी उपलब्ध हो सकता है। उन्होंने सड़क परिवहन मंत्री से इन मार्गों के बारे में सकारात्मक निर्णय लिये जाने की मांग की है।