चारधाम यात्रा: व्यवस्थाओं के सुचारु संचालन को गंगोत्री-यमुनोत्री धाम बांटे गए 12 सेक्टरों में

0
319
चारधाम

जिला अधिकारी ने बताया कि चारधाम यात्रा व्यवस्थाओं के सफल संचालन को लेकर इस बार गंगोत्री और यमुनोत्री धाम को 12 सेक्टर में बांटा गया है।

शनिवार को चारधाम यात्रा की तैयारियों को लेकर डीएम अभिषेक रुहेला ने मीडिया के साथ बातचीत में बताया कि यात्रा को सुगम,सुरक्षित और सफलतापूर्वक संचालन के लिए जहां गंगोत्री-यमुनोत्री धाम को 12 सेक्टरों में बांटा गया है वहीं होटल एसोसिएशन,व्यापार मंडल और टैक्सी यूनियन के साथ भी चर्चा की गई है। उन्होंने बताया कि यात्रा व्यवस्थाओं और निर्माण कार्य तेजी के साथ किए जा रहें है। दोनों धाम में यात्रा से पूर्व सभी व्यवस्थाएं चाक चौबंद कर ली जाएंगी।

जिलाधिकारी ने बताया कि गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में स्वास्थ्य विभाग ने डॉक्टर की तैनाती की तैयारी कर ली है। दोनों धाम में ऑक्सीजन सिलेंडर,दवाई की पर्याप्त उपलब्धता रहेगी। इस के लिए समुचित तैयारी सुनिश्चित कर ली गई है। साथ ही एम्बुलेंस व 108 आदि की तैनाती के लिए स्थान चिन्हित कर लिए गए हैं। दोनों धाम में 5 एम्बुलेंस और आठ 108 उपलब्ध रहेगी। यमुनोत्री पैदल मार्ग पर 9 एफएमएमआर की टीम तैनात रहेगी। इनके पास ऑक्सीजन,आवश्यक दवाई,स्ट्रकचर आदि जरूरी उपकरण उपलब्ध रहेंगे। ताकि किसी तीर्थ यात्री को जरूरत पड़ने पर उन्हें तत्काल उक्त सुविधा मुहैया करवाई जा सकें। साथ ही यात्रियों की स्क्रीनिंग की जाएगी। आपात स्थिति के लिए यात्रियों की सुविधा के लिए जानकीचट्टी में एक कार्डियक वैन भी उपलब्ध रहेगी।

जिलाधिकारी ने बताया कि पर्यटन विभाग तीर्थ यात्रियों के ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर रहा है। दोबाटा और हीना में वेरिफिकेशन काउंटर खोले गए हैं। जिन यात्रियों के रजिस्ट्रेशन हुए हैं उनका वहां सत्यापन किया जाएगा। साथ ही दोनों धाम में 38 पर्यटन मित्र तैनात रहेंगे जो भीड़ नियंत्रण, दर्शन कर रहें तीर्थ यात्रियों की लाइन लगाने आदि में पुलिस के साथ मदद करेगी।

जिलाधिकारी ने जल संस्थान के किए गए कार्यों की जानकारी मीडिया को दी जानकारी में बताया कि यात्रा मार्ग पर 31 स्टैंड पोस्ट और टैंक औऱ183 हैंडपम्प हैं। जिनकी सफाई व्यवस्था और मरम्मत कार्य कर लिए गए है। खाने की गुणवत्ता एवं ओवर रेटिंग के लिए खाद्य अधिकारी, जिला पूर्ति अधिकारी और एसडीएम को निर्देश दिए गए हैं। अब तक कुल 8 हजार 606 घोड़ा खच्चरों का पंजीकरण किया गया है। इसके अलावा जानकीचट्टी में भी 7 अप्रैल से रजिस्ट्रेशन कैम्प लगाएं जाएंगे। फूलचट्टी में घोड़ा पड़ाव बनाया गया है। साथ ही इस बार प्रीपेड व्यवस्था भी लागू की गई है। यात्रा के सुगम और सुरक्षित संचालन को लेकर 259 पीआरडी जवान और 129 होमगार्ड के अलावा पर्याप्त पुलिस जवानों की तैनाती की जाएगी।