उत्तराखंडः बादल फटने से तबाही, चमोली और पिथौरागढ़ में 2 महिलाओं की मौत, बीआरओ का पुल बहा

0
105
चमोली
गोपेश्वर/पिथौरागढ़, । चमोली जिले के घाट विकास खंड के पडेर गांव के निकट तिमदो तोक में आज तड़के और पिथौरागढ़ ज़िले के धारचूला और बंगापानी में बीती रात बारिश ने भारी तबाही मचाई है।दोनों जिलों में ही बादल फटने की घटनाएं हुई हैं। बादल फटने के कारण आये मलबे से चमोली जिले में एक महिला की मौत हो गई, जबकि उसकी बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पिथौरागढ़ जिले में एक महिला की मौत हो गई और बीआरओ द्वारा निर्मित एक पुल भी पानी के तेज बहाव में बह गया है।
आपदा परिचालन केंद्र चमोली से मिली सूचना के अनुसार सोमवार की देर सायं से चमोली जिले में हो रही भारी वर्षा के कारण मंगलवार तड़के रात्रि तीन बजे के आसपास घाट विकास खंड के पडेर गांव के निकट तिमदो तोक में बादल फटने की सूचना मिली है। बताया गया है कि तिमदो ताक में बादल फटने से हुए भूस्खलन के कारण आये मलबे से यहां बनी छानी में रह रही पडेर गांव निवासी 36 वर्षीय देवेश्वरी देवी पत्नी रघुवीर सिंह व उसकी 12 वर्षीय पुत्री इसकी चपेट में आ गये। मलबे में दबने से महिला की मौत हो गई जबकि बच्ची को घायलावस्था में घाट चिकित्सालय में भर्ती किया गया है।
बदरीनाथ हाइवे भी तीन स्थानों पर है बंद
आपदा परिचालन केंद्र से सूचना मिली है कि बदरीनाथ हाइवे पर पीपलकोटी के समीप भनेरपानी, टंगणी के पास पागल नाला व कहेड में भूस्खलन के कारण पहाड़ी से आये भारी बोल्डर व मलबे के कारण बाधित हो गया है। इसे खोलने की प्रक्रिया गतिमान है। जिले में हो रही भारी वर्षा के कारण अवरुद्ध मार्ग को खोलने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
पिथौरागढ़ ज़िले के धारचूला और बंगापानी में तबाही
प्रारम्भिक सूचनाओं के मुताबिक जनपद पिथौरागढ़ के तहसील बंगापानी के जाराजिबली में बीती रात एक बार फिर बादल फटने से भारी नुकसान हुआ है। तेज बारिश से आए पानी के साथ लोगो के घरों और खेत खलिहानों में मलबा घुस गया है। एक महिला रात से लापता है, जिसकी खोजबीन में स्थानीय लोग जुटे हुए हैं।
उधर, चामी में बीआरओ द्वारा बनाया गया पुल पानी के तेज बहाव में बह गया है। लुमती गांव  में भी भारी नुकसान की सूचना है। धारचूला के गलाती में भारी बारिश से उफनाये नाले का पानी लोगो के घरों में घुस गया, जिसके बाद जान बचाने के लिए लोग सुरक्षित स्थानों पर चले गए हैं।
पिथौरागढ़ के जिलाधिकारी डा. वीके जोगदंडे से ने ‘हिन्दुस्थान समाचार” से बातचीत में बीआरओ का पुल बहने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि जो महिला महिला लापता बताई जा रही थी, उसका शव मिल गया है। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की राहत टीमों को घटना स्थल के लिए रवाना कर दिया गया है। कुमाऊं स्काउट की एक टीम भी रवाना की गई है।
उल्लेखनीय है कि पिथौरागढ़ जिले में 19 जुलाई की रात बादल फटने की घटनाओं में कुल 14 लोग लापता बताए गए थे, जिनमें से गैला गांव में रेस्क्यू टीम ने तीन शव मलबे से बरामद किए थे और टांगा गांव में 9 शव मलबे से अब तक निकाले जा चुके हैं। दो लोगों की तलाश अब भी जारी है। इस बीच 26 जुलाई की रात भी भ्यौला तोक और गूठी गांव में बादल फटने की घटनाएं हुईं और मलबा आने पर एक घर जमींदोज हो गया, जिसमें दो लोग जिंदा दब गए। कल दिन भर चलाए गए रेस्क्यू आपरेशन में एक पुरुष का शव मलबे से निकाला गया लेकिन अभी एक महिला की तलाश जारी है। उधर गूठी गांव में भी मलबे से एक महिला का शव कल ही निकाला गया और पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिया गया।