गंगोत्री की विधानसभा सीट तय करेगी उत्तराखंड सरकार की संरचना

0
86
उत्तरकाशी

इस बार भारतीय जनता पार्टी सत्ता परिवर्तन का मिथक तोडे़ने की पूरी उम्मीद लगाये है। इसका प्रमाण भारतीय जनता पार्टी की महत्वपूर्ण बैठकें हैं जो इस बात का संकेत दे रही हैं कि पार्टी उत्तराखंड में पुन: सत्ता में वापसी को लेकर आश्सवस्त है। इस बार गंगोत्री विधानसभा सीट भाजपा के पाले में आने की संभावना है। यह मिथक 70 सालों से चला आ रहा है।

उत्तराखंड में इस बार गंगोत्री विधानसभा से भाजपा के सुरेश चौहान चुनाव मैदान में हैं, जिनकी क्षेत्र में बहुत अच्छी छवि है और भाजपा को उम्मीद है कि गंगोत्री सीट भाजपा को मिल रही है और राज्य में उसकी पूर्ण बहुमत से सरकार बनेगी। अब तक के आंकड़े बताते हैं कि राज्य गठन से पहले जयेंद्र सिंह बिष्ट 1952 में निर्दलीय और 1957 में कांग्रेस से विधायक बने। वर्ष 1958 में रामचंद्र उनियाल कांग्रेस से विधायक बने। कृष्ण सिंह 1962, 1967 और 1969 में कांग्रेस से विधायक बने। वर्ष 1977 में जनता पार्टी से बर्फिया लाल जुवांठा से विधायक बने और इन्हीं दलों की सरकार बनी।

ठीक इसी प्रकार वर्ष 1980 और 1985 में कांग्रेस से बलदेव सिंह आर्य विधायक बने। वर्ष 1989 में बर्फिया लाल जुवांठा जनता पार्टी से विधायक बने। 1991 में ज्ञानचंद भाजपा विधायक बने और भाजपा की सरकार बनी जबकि 1993 में बलदेव सिंह आर्य समाजवादी पार्टी के विधायक बने और सपा की सरकार बनी। इसी प्रकार वर्ष 1996 में ज्ञानचंद भाजपा के विधायक बने और भाजपा की सरकार बनी।

राज्य बनने के बाद से वर्ष 2002 में विजयपाल सजवाण कांग्रेस के विधायक बने और कांग्रेस की सरकार बनी। 2007 में गोपाल सिंह रावत भाजपा के विधायक बने और भाजपा की सरकार बनी। एक बार फिर 2012 में विजयपाल सजवाण कांग्रेस के विधायक बने और कांग्रेस सत्ता में आई। वर्ष 2017 में पुन: गोपाल सिंह रावत भाजपा के विधायक बने और भाजपा सरकार में आई। इस बार पुन: गंगोत्री में भाजपा विधायक के जीतने की पूरी संभावना है। यहां से सुरेश चौहान भाजपा से चुनाव लड़ रहे हैं और पार्टी की सरकार बनना तय माना जा रहा है।

देहरादून पेसिफिक होटल में आज चल रही अहम बैठक में पार्टी के सभी 70 उम्मीदवार और प्रदेश पदाधिकारी, जिलों के पदाधिकारी उपस्थित हैं। यह बैठक इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि प्रदेश में जैसे ही मतदान की प्रक्रिया संपन्न हुई थी, उसके बाद से ही लगातार भाजपा में भितरघात की चर्चा थी, लेकिन मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने स्पष्ट कहा था कि उनकी सरकार पूर्ण बहुमत से आ रही है। दूसरी ओर भाजपा विधायक महेंद्र भट्ट ने एक बयान देकर कहा था कि कांग्रेस के कई जिताऊ उम्मीदवार उनके सम्पर्क में हैं। यह भी इस बात का प्रमाण है कि भाजपा मिथक तोड़ने और सरकार बनाने जा रही है। भाजपा की इस बैठक पर सभी की पैनी नजर है।

इसी बीच भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं राष्ट्रीय महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय जो जोड़तोड़ और गठजोड़ में महारथी हैं, उत्तराखंड में मोर्चा संभाल चुके हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी समेत भाजपा के वरिष्ठ नेताओं जिनमें पूर्व मुख्यमंत्रियों जिनमें डा. रमेश पोखरियाल निशंक का नाम भी शामिल हैं, जिनसे राजनैतिक चर्चा की गई है। कैलाश विजयवर्गीय का उत्तराखंड आना ही इस बात का संकेत माना जा रहा है कि भाजपा पूर्ण बहुमत की सरकार बनने जा रही है।