उत्तराखंड में मौसम की मार झेल रही चार धाम यात्रा

0
1050

ऋषिकेश, उत्तराखंड में तूफान और बारिश का अलर्ट जारी किया है आपदा प्रबंधन केंद्र के साथ-साथ सभी जिले उनके जिलाधिकारियों को सचेत कर दिया गया है, लेकिन ऐसे में प्रदेश में चल रही चार धाम यात्रा बदस्तूर जारी है और बड़ी संख्या में तीर्थयात्री कि इस यात्रा पर निकल रहे हैं। देवभूमि के प्रवेश द्वार ऋषिकेश में बड़ी संख्या में रजिस्ट्रेशन कराकर तीर्थयात्री यात्रा को निकल रहे हैं जिन्हें पल पल मौसम का अलर्ट और यात्रा में सावधानी बरतने की सलाह दी जा रही है

उत्तराखंड में चार धाम यात्रा अपने शबाब पर है, बड़ी संख्या में तीर्थयात्री देश-विदेश से ऋषिकेश पहुंच रहे हैं और यहां से रजिस्ट्रेशन करा कर आस्था के इस यात्रा पर निकल रहे हैं, ऐसे में मौसम विभाग द्वारा भारी तूफान और भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है जिसमें 48 घंटे में प्रदेश भर में 70 से 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फबारी, ओलावृष्टि और बारिश की संभावनाएं जताई गई है।

ऋषिकेश में बायो रजिस्टर अधिकारी प्रेमानंद का कहना है कि, “यात्रा टर्मिनल से यात्रियों को यात्रा में खराब मौसम से निपटने के लिए एडवाइजरी जारी की जा रही है और हर तरह की सलाह फोन पर मैसेज द्वारा उपलब्ध कराई जा रही है साथ ही यात्रा मार्ग पर पड़ने वाले सभी जिलों के प्रशासन को भी सूचित किया जा रहा है ऐसे में ऋषिकेश से आज सुबह से लगभग 2,000 से ज्यादा यात्री अपनी यात्रा के लिए निकल चुके हैं जिन्हें ऋषिकेश रजिस्ट्रेशन ऑफिस से यात्रा मार्गों के लिए अलर्ट और गाइडलाइन जारी की जा रही है।”

मौसम की मार भी आस्था पथ के सामने बोनी साबित हो रही है। बड़ी संख्या में तीर्थयात्री चारों धामों के लिए निकल रहे हैं और उनका कहना है कि चाहे मौसम कैसा भी हो भगवान बद्रीविशाल और केदार बाबा इस मौसम में भी उनकी यात्रा को सफल बनाएंगे। यह जज्बा है जो आस्था के इस यात्रा को और मजबूत करता है और तीर्थ यात्रियों के हौसले इस यात्रा में चार चांद लगा देते हैं।

चार धाम यात्रा पर आए श्रद्धालु जगदीश, प्रह्लाद चौधरी का कहना है कि हमारी इस यात्रा में भगवान बद्रीविशाल और भोले नाथ केदार बाबा का आशीर्वाद बना हुआ है जब उन्होंने बुलाया है तो हमारी यात्रा को भी सफल वहीं बनाएंगे, इसे श्रद्धा एवं विश्वास ही कहा जाए की चार धाम यात्रा बिना किसी रूकावट के बड़ी तेजी के साथ चल रही है। प्रतिदिन ऋषिकेश से बड़ी संख्या में यात्री आस्था के इस यात्रा पर जा रहे हैं ऐसे में मौसम की रुकावट भी यात्रियों के हौसले को बिगाड़ नहीं पा रही है। ऐसे में सवाल उठता है उत्तराखंड सरकार इन यात्रियों की आस्था को कैसे बरकरार रख पाएगी यात्रा मार्ग पर शासन द्वारा यात्रा पर निकलने वाले तीर्थ यात्रियों की सुविधा लिए।