जोशीमठ : भालू के आतंक से परेशान लोग, शाम होते ही घरों में दुबकने को विवश

0
172
भालू
FILE

जोशीमठ के विभिन्न क्षेत्रों में लोग भालू के आतंक से परेशान हैं। लोग शाम होते ही घरों में दुबकने को विवश हैं। भालू जहां मानव जाति के लिए खतरा बना हुआ है, वहीं फसलों व बागवानी को भी नुकसान पहुंचा रहा है।

औली में फल उत्पादक किसान प्रेम सिंह बिष्ट ने कड़ी मेहनत से सेब को बगीचा तैयार किया था। उसमें इस वर्ष फल भी अच्छे थे, लेकिन बीते दिनों से लगातार भालू सेब के बगीचे में पहुंचकर सेब के साथ ही पेड़ों को भी नुकसान पहुंचा रहा है।

प्रेम सिंह बिष्ट के अनुसार कड़ी मेहनत के बाद सेब का बगीचा तैयार किया, लेकिन सेब से लदे पड़ों को भी भालू द्वारा तहस-नहस कर देने से बहुत निराशा हो रही है। कहीं से कोई सहायता तक नहीं मिल पा रही है। वन विभाग को इसकी शिकायत की तो विभाग ने आठ-दस पटाखे दे दिए। भालू अब इतना निडर हो चुका है कि पटाखों की आवाज से भी नही भाग रहा है।

बीते दिन बुधवार को गैस गोदाम के निकट भालू ने हमला कर 40 वर्षीय रमेश प्रसाद डिमरी को बुरी तरह घायल कर दिया था, जिन्हें तत्काल सीएचसी जोशीमठ पहुंचाया गया।

वन क्षेत्राधिकारी चेतना कांडपाल ने सीएचसी जोशीमठ पहुंचकर घायल रमेश के परिजनों को उपचार के लिए दस हजार की नकद राशि देते हुए मामले की जानकारी उच्चाधिकारियों को दी थी। उन्होंने बताया कि रमेश को हायर सेन्टर रेफर कर दिया गया है और घायल के उपचार के लिए जो भी आर्थिक सहायता का प्रावधान है उसे तुरन्त दिया जाएगा।

नन्दा देवी राष्ट्रीय पार्क के डीएफओ नंदा बल्लभ शर्मा ने बताया कि लगातार मिल रही शिकायतों के बाद भालू को पकड़ने की अनुमति के लिए पत्राचार किया गया था, जिसके क्रम में विभाग को पिंजरा लगाने की अनुमति मिल गई है। शीध्र ही संबंधित क्षेत्र में पिंजरा लगाया जाएगा।