उत्तराखंड के शीतल और योगेश ने अन्नापूर्णा पर्वत पर लहराया तिरंगा

0
134
अन्नापूर्णा

पिथौरागढ़: “क्लाइबिंग बियॉंड सम्मिट” संस्थान के जनक, शीतल और योगेश गबर्रियाल ने इतिहास के पन्नों में अपने लिये जगह बना ली है। पिथौरागढ़ के इन पर्वतारहियों ने 16 अप्रैल, 2021 को दोपहर दो बजे अन्नापूर्णा पर्वत की चोटी पर फतह हासिल की।

नेपाल में 8,091 मीटर की ऊंचाई पर मौजूद इस पर्वत पर जीत दर्ज करने के लिये तीन सदस्यों की यह टीम पिछले लंबे समय से कड़ी मेहनत और तैयारियों में लगी हुई थी। अन्नपूर्णा विश्व की 10वी सबसे ऊंची चोटी है और पर्वतारोहण के लिहाज से सबसे कठिन चोटियों में से एक है।

उत्तराखंड के इन दोनों पर्वातारोहियों ने महाराष्ट्र के छह अन्य सदस्यों के दल के साथ अन्नपूर्णा पर्वत पर चढ़ाई की। इस टीम में प्रियंका मोहिते भी शामिल थी जो भारत की एक युवा पर्वतारोही हैं। यह पहला मौका है जब दो भारतीय महिला पर्वतारोही  अन्नपूर्णा चोटी पर पहुंचीं।

इससे पहले योगेश और शीतल ने माउंट एवरेस्ट और कंचनजंगा पर भी परचम फहराने में कामयाबी हासिल की है। और अब इनकी सफलताओँ की फहरिस्त में अन्नापूर्णा भी शामिल है।

यह दोनों अब पिथौरागढ़ वापस पहुंच गये हैं। अपनी इस कामयाबी से शीतल खासी उत्साहित भी हैं। न्यूजपोस्ट से बात करते हुए उन्होने कहा कि, “यह खतरनाक और मुश्किल था। अन्नापूर्णा श्रृखंला के पहाड़ केवल पत्थरों से बने हैं, लेकिन, पर्वत की चोटी पर पहुंचने का अनुभव बहुत अच्छा था। ऐसा अनुभव मुझे पहले कभी नही हुआ है।”

इस साल अलग-अलग देशों के 29 पर्वतारोहियों नें अन्नापूर्णा पर्वत पर चढ़ाई की है, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है। इन 29 लोगों में 14 महिला पर्वतारोही थीं, जो महिला पर्वतारोहियों के लिहाज से एक कीर्तिमान रहा है।

अपनी कामयाबी के बारे में बात करते हुए योगेश ने कहा कि, “हांलाकि अन्नापूर्णा पर्वत दुनिये के सबसे दुर्गम पर्वतों में से है, लेकिन मुझे हमेशा आश्चर्य होता था कि इस पर्वत पर चढ़ने वाली महिलाओं में भारतीय महिला पर्वतारोहियों का नाम क्यों नही है। इस पर्वत पर एक भारतीय महिला पर्वतारोही द्वारा तिरंगा फहराना बहुत गौरव का पल था। सारे देश को शीतल की इस कामयाबी पर गर्व है।”

भारतीय दल के सदस्य

1. डॉ सुमीत मनडाले
2. भूषण हारशे
3. जीतेंद्र गवारे
4. प्रियंका मोहिते
5. भगवान चावले
6. केवक काका
7. शीतल
8. योगेश गबर्रियाल

आने वाले दिनों में शीतल और योगेश, क्लाइंबिंग बियॉंड सम्मिट के बैनर तले, सितंबर में उत्तराखंड की भागीरथी- 2 पर्वत श्रृंखला के लिये एक महिला पर्वतारोहियों का दल ले जाने की तैयारी में हैं।