उत्तराखंड में 18 मार्च के बाद होगा मंत्रिमंडल विस्तारः मुख्यमंत्री

0
71

उत्तराखंड में राज्य मंत्रिमंडल के विस्तार की अटकलों पर विराम लगाते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गुरुवार को कहा कि 18 मार्च के बाद कभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार कर दिया जाएगा। इसके अलावा उन्होंने कहा कि गैरसैंण ग्रीष्मकालीन राजधानी का विशेषज्ञों से ब्लू प्रिंट तैयार कराया जाएगा, उसके बाद प्राथमिकता और बजट की उपलब्धता के आधार पर चरणबद्ध तरीके से काम शुरू किए जाएंगे।

– गैरसैंण के विकास के लिए विशेषज्ञों से तैयार कराएंगे विकास का ब्लू प्रिंट

– बजट और प्राथमिकता के आधार पर चरणबद्ध तरीके से शुरू होगा काम 

भराड़ीसैंण में पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में मुख्यमंत्री ने माना कि मंत्रिमंडल के विस्तार की जरूरत महसूस होने लगी है। 18 मार्च को सरकार के तीन साल पूरे होने के बाद कभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार अपने तीन साल के कार्यकाल के दौरान विधानसभा चुनाव के वक्त जारी किए गए दृष्टिपत्र के लगभग 75 प्रतिशत वादे पूरी कर चुकी है। गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाए जाने का सरकार का फैसला पहाड़ी क्षेत्र के दूरस्थ गांवों के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। उत्तराखंड राज्य निर्माण आंदोलन की अवधारणा ही यही थी कि गैरसैंण को केंद्र बिंदु मानते हुए गढ़वाल और कुमाऊं मंडल का संतुलित विकास हो सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार अब विशेषज्ञों से गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाए जाने का ब्लू प्रिंट तैयार कराएगी, जिसमें यह ध्यान रखा जाएगा कि प्रशासनिक व्यय कम से कम हो और विकास कार्यों में बजट का सदुपयोग हो। उन्होंने कहा कि यह एक बड़ा प्रोजेक्ट है, जिसमें बड़े बजट की आवश्यकता है, लिहाजा सरकार प्राथमिकताएं तय करते हुए इस दिशा में आगे बढ़ेगी।

मुख्यमंत्री ने गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाए जाने पर कांग्रेस के विरोध को जनभावना के साथ खिलवाड़ बताया। उन्होंने कहा कि पृथक राज्य निर्माण के बाद कांग्रेस ने उत्तराखंड में 10 साल तक राज किया है जबकि भाजपा अभी तक कुल मिलाकर आठ साल ही सत्ता में रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने गैरसैंण के नाम पर सिर्फ राजनीति की है जबकि हमने इस पर निर्णय लेकर शहीदों के सपने और जनभावनाओं का सम्मान किया है।