उत्तराखंड सरकार ने 20 चिकित्सकों को किया बर्खास्त

0
82
चिकित्सकों
शासन ने लम्बे समय से अनुपस्थित चल रहे 20 सरकारी चिकित्सकों की सेवाएं समाप्त कर दी हैं। ये राज्य के विभिन्न जिलों के अस्पतालों और स्वास्थ्य केंद्रों पर तैनात किए गए थे। स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी ने आज इस आशय के आदेश जारी किए हैं।
जिन चिकित्सकों की सेवाएं समाप्त की गई हैं, उनमें डाॅ. रितेश चौहान (उप जिला चिकित्सालय, अल्मोड़ा), डाॅ. हेमचंद भट्टा (जिला चिकित्सालय, बागेश्वर), डाॅ. दीपक सेमवाल (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, कर्णप्रयाग, चमोली), डाॅ. अमित कुमार पांडेय (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, घाट, चमोली), डाॅ. संदीप सिंह (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, कर्णप्रयाग, चमोली), डाॅ. रजनी शर्मा (जिला चिकित्सालय, चम्पावत), डाॅ. शुभंकर प्रतीक लाल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, मसूरी, देहरादून, डाॅ. सचिन सैनी (अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, पिरान कलियर, हरिद्वार), डाॅ. रमेश कुमार (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, लक्सर, हरिद्वार), डाॅ. उत्कर्ष तेवतिया (संयुक्त चिकित्सालय, रुड़की, हरिद्वार), डाॅ. विकास कुमार झा (संयुक्त चिकित्सालय, रामनगर, नैनीताल), डाॅ. सुरेन्द्र कुमार (संयुक्त चिकित्सालय, श्रीनगर, पौड़ी) हैं।
इसी तरह डाॅ. गौरव आर्य (जिला चिकित्सालय, रुद्रप्रयाग), डाॅ. सरफराज हुसैन (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, धत्यूड़, टिहरी), डाॅ. योगेश आहुजा (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, लम्बगांव, टिहरी), डाॅ. अंजली चौहान (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, जसपुर, ऊधम सिंह नगर), डाॅ. मयंक कश्मीरा, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, खटीमा, ऊधम सिंह नगर), डाॅ. बच्चा बाबू (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, गदरपुर, ऊधमसिंह नगर), डाॅ. ईशा गुप्ता, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बाजपुर, ऊधमसिंह नगर) और डाॅ. अखिल अग्रवाल (जिला चिकित्सालय, उत्तरकाशी) की भी सेवाएं समाप्त कर दी गई हैं।
स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी के अनुसार यह सभी चिकित्सक 17 अप्रैल, 2019 को की गई नियुक्ति प्रक्रिया के बाद नियुक्ति या योगदान के पश्चात अपनी परिवीक्षा अवधि से ही अनुपस्थित हैं। नतीजतन, उत्तराखंड स्वास्थ्य सेवा नियमावली 2014, भाग छ के नियम-18(4) के प्रावधानों के अनुसार इन सभी की सेवाएं अनुपस्थित तिथि से ही समाप्त की जाती हैं।