केदारनाथ से तीर्थयात्री को हेलीकॉप्टर से पहुंचाया गया अस्पताल

0
144

चार धाम तीर्थ यात्रियों के प्रति राज्य के अधिकारियों की संवेदनशीलता के कई उदाहरण सामने आ रहे हैं। केदारनाथ सहित अन्य यात्रा मार्ग में तीर्थ यात्रियों को हर तरह की मदद राज्य की ओर से उपलब्ध कराई जा रही है। कल की तरह आज भी कई बीमार यात्रियों को एयर लिफ्ट कर अस्पताल पहुंचाया गया है।

केदारनाथ तीर्थ के रास्ते में अचानक बीमार हुए तीर्थयात्री को हेलीकॉप्टर के माध्यम से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), ऋषिकेश रेफर किया गया। रायगढ़ निवासी एक 62 वर्षीय वरिष्ठ नागरिक को दुर्घटना के चलते सिर में चोट लग गई। हालत बिगड़ने पर उन्हें सोनप्रयाग से एयर लिफ्ट कर एम्स ऋषिकेश पहुंचाया गया।

श्री केदारनाथ धाम के दर्शन करने जम्मू कश्मीर से आई एक महिला का पैर फ्रैक्चर हो गया और उन्हें हेलीकॉप्टर के माध्यम से सोनप्रयाग तक पहुंचाया। इतना ही नहीं श्री केदारनाथ धाम में अपने परिजनों से बिछड़ गई 06 वर्षीय आव्या को पुलिस की मदद से उनके परिजनों से मिलाया गया।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी, रुद्रप्रयाग डा.बीके शुक्ला ने बताया कि तीन मई से शुरू हुई चार धाम यात्रा का संचालन व्यवस्थित ढंग से किया जा रहा है। दो साल बाद बंदिशों के बिना चार धाम यात्रा का संचालन किया जा रहा है। इस बार बड़ी संख्या में तीर्थ यात्रियों की आने की उम्मीद को ध्यान में रखते हुए सभी व्यवस्थाओं को दुरुस्त किया गया है।

गौरतलब है कि शासन ने पहली बार चार धाम यात्रा के लिए पंजीकरण को अनिवार्य किया है। पर्यटन विभाग की ओर से ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम से पंजीकरण किया जा रहा है। चार धामों में बिना पंजीकरण के तीर्थ यात्रियों को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है।

श्री केदारनाथ धाम में कुल 14 अस्थाई चिकित्सालय स्थापित किए गए हैं और अन्य चिकित्सा सुविधाओं को सुदृढ़ किया जा रहा है। तीर्थ यात्रियों के लिए स्वास्थ्य परामर्श भी जारी है। वरिष्ठ नागरिकों और बीमार लोगों को फिलहाल यात्रा से बचने की सलाह दी गई है। बड़े पैमाने पर की जा रही यात्रा को ध्यान में रखते हुए पार्किंग की पर्याप्त व्यवस्था की गई है।