नाना को क्लीन चिट देने के खिलाफ कोर्ट जाएंगी तनुश्री दत्ता

0
53

मुंबई,  तनुश्री दत्ता द्वारा पिछले साल मीटू मूवमेंट में नाना पाटेकर के खिलाफ यौन शोषण का दर्ज मामला होने के बाद गुरुवार को मुंबई पुलिस ने क्लीन चिट दे दी। अब खबर मिल रही है कि मुंबई पुलिस के इस फैसले को तनुश्री दत्ता बांबे हाईकोर्ट में चुनौती देने जा रही हैं।

तनुश्री दत्ता के वकील नितिन सतपुते के मुताबिक, “हम जल्दी ही कोर्ट में इस मामले में याचिका दायर करेंगे। उनका कहना है कि पुलिस ने बगैर किसी आधार के नाना को क्लीन चिट दे दी, जिसे स्वीकार नहीं किया जा सकता।”

मुंबई के ओशिवारा पुलिस स्टेशन की ओर से इस केस की सुनवाई कर रहे कोर्ट में बी समरी रिपोर्ट दर्ज करा दी, जिसका मतलब ये हुआ कि आरोपी के खिलाफ पुलिस को कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं। तनुश्री दत्ता के वकील का दावा है कि पुलिस द्वारा दर्ज कराई गई इस बी समरी रिपोर्ट की प्रति अभी तक उनको नहीं मिली है। उनका कहना है कि प्रति मिलने के बाद हम कोर्ट में इसका विरोध करेंगे। नितिन सतपुते ने ये भी कहा कि इस रिपोर्ट के आधार पर नाना को बेकसूर नहीं ठहराया जा सकता। उनका आरोप है कि पुलिस नाना को बचाने की कोशिश कर रही है, इसलिए गवाहों के पूरे बयान दर्ज नहीं हुए और मामले की पुलिस ने ठीक से जांच नहीं की। उनका कहना था कि वे अदालत से इस मामले को क्राइम ब्रांच या किसी दूसरी डिविजन को सौंपने की भी मांग करे, ताकि निष्पक्ष तरीके से इसकी जांच हो सके। उधर, इस मामले में तनुश्री दत्ता का बयान भी आ गया है।

नाना को क्लीन चिट देने के फैसले पर पहली प्रतिक्रिया में तनुश्री दत्ता की ओर से जारी बयान में मुंबई पुलिस को नाना की तरह करप्ट कहा गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने साक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ की और मामले को कमजोर किया। तनुश्री दत्ता इन दिनों अमेरिका में बताई जाती हैं और इससे पहले वे आरोप लगा चुकी हैं कि राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के दबाव में पुलिस नाना के खिलाफ कार्रवाई से बच रही है।

तनुश्री ने इस केस के बाद मनसे की ओर से उनको धमकियां मिलने की शिकायत भी की थी। तनुश्री दत्ता ने पिछले साल जो मामला उठाया था, वो दस साल पुराना है, जब वे नाना के साथ एक फिल्म के गाने की शूटिंग कर रही थीं और तनुश्री का आरोप है कि शूटिंग के दौरान नाना ने उनको गलत तरीके से छुआ। नाना पाटेकर इन आरोपों को नकार चुके हैं।