वाहन निर्माण में पर्यावरण प्रदूषण का रखे ध्यान 

0
17
देहरादून/पंतनगर/रुद्रपुर, राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने कहा कि टाटा मोटर्स कम लागत की गाड़ियों का उत्पादन कर आम आय वर्ग के व्यक्तियों के सपनों को साकार किया है। साथ ही कहा कि वाहन निर्माण के दौरान प्रदूष्ण दुष्प्रभाव पर विशेष ध्यान देना होगा।
राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने टाटा गुणवत्ता माह का समापन दीप प्रज्जवलित कर किया। इस दौरान कहा कि कहा कम लागत मे नैनो को बनाकर टाटा द्वारा काफी सफलता हासिल की गई। आज भी टाटा द्वारा जो छोटे हाथी का उत्पादन किया जा रहा है उसमें पहाड़ो के दूर-दराज के क्षेत्रो मे सामान लाने ले जाने मे सुविधा हो रही है। टाटा समूह को कार्य करते हुए 150 वर्ष हो गये है। समाज को कम पैसे मे अधिक कार्य करने की सुविधा दी है। 
राज्यपाल ने कहा कि टाटा ने 80 हजार लोगों को रोजगार दिया है यह एक सराहनीय कार्य है। लेकिन वर्तमान को देखते हुए और अधिक लोगों को रोजगार दिया जाए। टाटा मोटर्स लिमटेड द्वारा अल्मोडा, नैनीताल व उधमसिंह नगर मे कुल 22 हजार लोगों को पेयजल उपलब्ध कराना पुण्य का कार्य है। उन्होने कहा कि टाटा मोटर्स सीएसआर मद से सरकारी स्कूलों को गोद ले व उन्हे स्मार्ट स्कूल बनाये साथ ही गरीब बच्चो की आवश्यकता के अनुसार उन्हें निःशुल्क पाठ्य सामग्री, बैग, यूनिफार्म आदि की सुविधा दे। 
उन्होंने कहा कि हमे अपने अधिकारो के साथ कर्तव्यों का भी पालन करना होगा। जिस वस्तु का निर्माण कर रहे है, उसका पर्यावरण पर दुष्प्रभाव न पड़े। उन्होने कहा हमे स्वच्छता व स्वास्थ्य की बात हर समय करनी चाहिए, हमे अपने गांव मौहल्लों को हमेशा साफ-सुथरा रखना होगा। इस अवसर पर राज्यपाल द्वारा टाटा गुणवत्ता माह मे विजेताओ को पुरस्कृत किया गया। राज्यपाल द्वारा टाटा मोटर्स मैदान मे पौधरोपण भी किया गया।
इससे पूर्व टाटा मोटर्स के प्लांट हैड अनल विजय सिंह द्वारा बताया गया टाटा मोटर्स समूह को 150 वर्ष व टाटा मोटर्स को 74 साल पूरे हो गये है। पंतनगर मे छोटे व्यवसायिक वाहनो का उत्पादन किया जाता है। टाटा मोटर्स लिमटेड सीएसआर मद से सामाजिक, शिक्षा, स्वास्थ, कौशल विकास पर कार्य किये जा रहे है।