एसएसपी नैनीताल ने उत्तराखंड में फैले माओवाद की रीढ़ की हड्डी तोड़ी

0
2319

हाल ही में जब तेजतर्रार एसएसपी जन्मजेय खंडूड़ी अपने नैनीताल पोस्टिंग की पहली सालगिरह मना रहे थे और लोग उनके काम की सराहना कर रहे थे तभी एसएसपी नैनीताल के हाथ बहुत बड़ी सफलता लगी और एसएसपी के संरक्षण में पहाड़ी क्षेत्र का ‘मोस्ट वाँडटेड’ माओवादी जिसपर 50 हजार का ईनमा था, शनिवार शाम को उसको चोरगलिया, हल्द्वानी से गिरफ्तार किया गया।

न्यूजपोस्ट से बातचीत में एसएसपी ने कहा कि, ‘दरअसल हमारी टीम काफी समय से देवेंद्र छमियाल को ढूंढ़ने में लगी थी, छमियाल अपने माओवादी कामों की वजह से पुलिस की ‘वाँटेड’ लिस्ट में दशकों से था। बीते शाम, पुलिस के टिप-अोफ मिला कि कुछ संदिग्ध लोग अल्मोड़ा से नैनीताल बस का सफर कर रहे थे, पुलिस ने बस को चोरगलिया पर रुकाकर पूछताछ की और पैसेंजर की चेकिंग के दौरान दो संदिग्धों को पकड़ा।

maoist

40 साल का देवेंद्र छमियाल व एक 35 साल की महिला भगवती भोज को गिरफ्तार किया गया और उनसे पूछताछ की गई।माओवादी की उपस्थिति उत्तराखंड में पहले से महसूस की जा रही थी, खासकर कुमाउं क्षेत्र के अल्मोड़ा,पिथौरागढ़ और नैनीताल जिलो में पहले भी माओवादीयों ने जगह-जगह पोस्टर और दीवारों पर अपने संदेश छोड़े थे।

आपको बतादें कि नैनीताल में माओवादियों ने एक सरकारी गाड़ी को आग के हवाले कर दिया था। साथ ही चुनाव के बहिष्कार के लिये दीवारों पर पोस्टर भी लगाये गये थे। इसके अलावा माओवादियों ने सैकड़ों पोस्टर और लाल रंग से दीवारों पर अपना संदेश लिखकर अपनी भावनाओं से जनता को अवगत कराया है साथ ही साथ उन्होंने जनता से विधानसभा चुनावों का बहिष्कार करने की अपील भी करी थी।

एसओटीएफ और नैनीताल पुलिस की टीम एसएसपी नैनीताल जन्मजेय खंडूड़ी के निरीक्षण में देवेंद्र और उसके साथी को गिरफ्तार किया गया। एसएचओ भवाली इस केस के इंवेस्टिगेशन ऑफिसर है। इस केस में यह गिरफ्तारी पहाड़ में फैले माओवाद को रोकने में बहुत मददगार साबित होगा।